चीनी विशेषज्ञों के विचार में अमेरिका पर मंडराएंगे मंदी के बादल

2019-08-09 20:01:01

हाल में अमेरिका ने व्यापारिक घर्षण का स्तर उन्नत किया। चीनी विद्वानों ने कहा कि अमेरिका ने“उपनिवेशवादी तरीके”से चीन के खिलाफ़ व्यापार युद्ध छेड़ा, चीन इसका दृढ़ विरोध करता है। अमेरिका इस कार्रवाई से न केवल खुद को मंदी के खतरे में डाल लेगा, बल्कि वैश्विक शासन व्यवस्था और दुनिया को भी नुकसान पहुंचाएगा।

12वें चीन-अमेरिका आर्थिक व्यापारिक उच्च स्तरीय वार्ता जुलाई के अंत में शांगहाई में आयोजित हुई। दोनों पक्षों ने आर्थिक व्यापारिक क्षेत्रों में समान चिंतित वाले अहम मुद्दों पर सदिच्छापूर्ण, उच्च कारगर, रचनात्मक और गहन रूप से विचार विमर्श किया। इसके साथ ही चीन ने मांग के अनुसार अमेरिका से कृषि उत्पादों की खरीददारी को बढ़ाने का फैसला किया। लेकिन इस अच्छे रुझान को एक बार फिर अमेरिका ने नष्ट किया। उसने कहा कि अमेरिका 1 सितंबर को 3 खरब डॉलर मूल्य वाली चीनी वस्तुओं पर 10 प्रतिशत टैरिफ़ बढ़ाएगा।

चीनी आधुनिक अंतरराष्ट्रीय संबंध अनुसंधान संस्थान के विश्व आर्थिक अनुसंधान केंद्र के प्रमुख चांग युनछंग के विचार में व्यापार घर्षण से पैदा हुए टैरिफ़ का खर्च मुख्य तौर पर अमेरिका उद्यम और उपभोक्ता देंगे। अगर अमेरिका गलत रास्ते पर आगे बढ़ते हुए चीन के खिलाफ़ व्यापारिक युद्ध छेड़ा, तो उस पर मंदी के बादल मंडराएंगे।

पेइचिंग नॉर्मल विश्वविद्यालय के अंतरराष्ट्रीय संबंध अनुसंधान संस्थान के प्रधान चांग शनच्युन ने कहा कि अमेरिका की कार्रवाई न केवल वादा-खिलाफी है, बल्कि अमेरिकी का प्रभुत्ववाद भी नजर आता है। इस प्रभुत्ववाद से वैश्विक शासन को नुकसान पहुंच रहा है।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी