टिप्पणीः श्वेत पत्र ने शिनच्यांग में व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण कार्य संबंधी झूठ का पर्दाफाश किया

2019-08-16 20:31:02

चीन सरकार ने 16 अगस्त को शिनच्यांग में व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण पर श्वेत पत्र जारी किया। श्वेत पत्र में व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण की स्थापना की पृष्ठभूमि, सीखने के विषय और प्राप्त उपलब्धियों के बारे में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को जानकारी दी। श्वेत पत्र ने तथ्यों से पश्चिमी देशों के कुछ लोगों द्वारा इस क्षेत्र में फैलाए गए झूठ का पर्दाफाश हुआ।

शिनच्यांग लम्बे अरसे से चीन के आतंकवाद विरोधी और उग्रवादी संघर्ष का प्रमुख स्थल रहा। अपूर्ण आंकड़ों के मुताबिक 1990 से 2016 तक शिनच्यांग में आतंकवादी, उग्रवादी और अलगाववादी शक्तियों ने शिनच्यांग में हजारों हिसंक कार्यवाइयां कीं, जिन्होंने स्थानीय सामाजिक स्थिरता और आर्थिक विकास को बड़ा नुकसान पहुंचाया है। कोई भी एक जिम्मेदार सरकार इसे नजरअंदाज नहीं कर सकती है।

इस श्वेत पत्र ने तथ्यों से पश्चिमी देशों की छूठी बातों का पर्दाफाश किया। श्वेत पत्र में कहा गया कि शिनच्यांग में व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण केंद्र स्कूल जैसा है, जबकि जेल नहीं है। इस केंद्र में वेवुर जाति आदि अल्पसंख्यक जातियों के खिलाफ सांस्कृतिक सफाई नहीं दी जाती है। आतंकवादी और उग्रवादी अपराध का जातीय व धार्मिक विश्वास से कोई संबंध नहीं है। केंद्र में इस्लामिक धर्म आदि धार्मिक विश्वास पर प्रहार नहीं किया जाता है।

तथ्यों से साबित हुआ है कि व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना ने शिनच्यांग की स्थानीय जनता के जीने और विकास करने के अधिकार को सुनिश्चित किया है।

शिन्चयांग में आतंकवाद और उग्रवाद से संघर्ष करने के कदमों ने विश्व आतंकवादी विरोधी संघर्ष के लिए मूल्यवान अनुभव दिया है। कुछ समय पहले 50 से अधिक देशों के राजदूतों ने संयुक्त रूप से संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवाधिकार परिषद के अध्यक्ष और मानवाधिकार के उच्चायुक्त के नाम पत्र भेजकर शिनच्यांग समस्या पर चीन के रुख का समर्थन किया। पूर्ण रूप से इससे साबित हुआ है कि शिनच्यांग के मुद्दे पर चीन को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का व्यापक समर्थन मिला है।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी