दूसरे देशों के व्यक्तियों ने हांगकांग में हुई हिंसक घटनाओं की निंदा की

2019-08-21 10:33:00

अनेक देशों के व्यक्तियों ने इधर के दिनों में हांगकांग में हुई हिंसक घटनाओं की निंदा की है और एक देश में दो व्यवस्थाएं प्रणाली का समर्थन किया।

रूसी विज्ञान अकादमी के सुदूर पूर्व संस्थान के उप प्रधान एंड्रेइ ओस्ट्रोवस्की ने कहा कि हांगकांग में हिंसकों ने इस शहर के दैनिक जीवन को ठप किया और वाणिज्यिक नुकसान पहुंचाया। संकेत भी हैं कि हांगकांग में प्रदर्शनकारी विदेशी ताकतों के द्वारा नियंत्रित हैं। स्थानीय सरकार को सख्ती से हिंसक कार्यवाहियों को खत्म करना चाहिये।

अमेरिका की कार्यकारी खुफिया समीक्षा पत्रिका के वरिष्ठ संवाददाता विलियम जोन्स ने कहा कि बेशक ब्रिटेन और अमेरिका ने हांगकांग की स्थितियों का नियंत्रण किया है। इन देशों में कुछ सरकारी व्यक्तियों ने हांगकांग के प्रदर्शन को भड़का दिया है।

भारत के समीक्षक उदय भास्कर ने कहा कि हांगकांग के हवाई अड्डे के संचालन को रोकने से पर्यटन, यातायात और दूसरे वाणिज्य मुद्दों पर कुप्रभाव डाला गया है। प्रदर्शन जितना लंबा चलेगा, हांगकांग की अर्थव्यवस्था को उतना ही गहरा नुकसान पहुंचेगा। और यह भी चर्चित है कि जो भी राष्ट्रीय संप्रभुता को चुनौती देगा उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

उधर अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को, बॉस्टन और न्यूयॉर्क के चीनी उत्प्रवासियों ने इधर के दिनों रैलियों में भाग लेकर हांगकांग के हिंसक प्रदर्शनकारियों की निन्दा की। उन्होंने अपनी शांतिपूर्ण रैलियों में हाथ में राष्ट्रीय झंडे लिये देशभक्ति के नारे और गीत गाते हुए हांगकांग में शांति और समृद्धि बनाये रखने की आशा व्यक्त की। उन्होंने कहा कि हांगकांग चीन का एक भाग है। हांगकांग में हुई हिंसक कार्यवाही क्रोधित करने वाली हैं। चीन को विभाजित करने का जो षड्यंत्र है, उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी