टिप्पणी : अमेरिकी राजनीतिज्ञों के हस्तक्षेप से हांगकांग में खराब परिणाम होगा

2019-08-22 14:32:00

हाल ही में अमेरिकी कांग्रेस के अध्यक्ष नैन्सी प्रैट्रिसिया पेलोसी और सीनेट सदस्य मार्को रूबियो ने यह दावा किया कि अमेरिकी संसद में “मानवाधिकार और लोकतंत्र पर हांगकांग बिल” पर विचार-विमर्श और इसे पारित करवाएंगे। इसे लेकर चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि के तहत वैधानिक कार्य कमेटी ने 21 अगस्त को गंभीरता से विरोध प्रकट किया और कहा कि कुछ अमेरिकी राजनीतिज्ञों की कथनी से हांगकांग में हिंसक कार्यवाहियों का सहारा दिया गया है और इसका उद्देश्य हांगकांग में गड़बड़ी पैदा करना है।

वास्तव में अमेरिका के दूसरे वरिष्ठ अफसरों तथा सीआईए समेत संस्थाओं ने भी हांगकांग के हिंसक प्रदर्शनकारियों का समर्थन भी किया है। उन्होंने "हांगकांग की स्वतंत्रता" के लोगों के साथ संपर्क रखकर हांगकांग की स्थितियों पर गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणी की और इसे चीन-अमेरिका व्यापार वार्ता के साथ जोड़ने की धमकी दी। अमेरिकी उप राष्ट्रपति माइक पेंसे आदि ने भी कहा कि हांगकांग में लोकतंत्र और स्वतंत्रता का समादर किया जाना चाहिये।

उधर, इस वर्ष के जून माह से हांगकांग के कट्टरपंथियों ने कानून का उल्लंघन कर हिंसक मुठभेड़ को जन्म दिया और पुलिस, प्रेस और पर्यटकों पर प्रहार किया। इन व्यक्तियों ने हांगकांग विधान परिषद भवन और केंद्र सरकार के कार्यालय पर धावा बोला। उन्होंने चीनी राष्ट्रीय ध्वज तथा एम्ब्लम का अपमान कर सार्वजनिक परिवहन और यहां तक हवाई अड्डे को अवरुद्ध किया। हिंसक कार्रवाइयों से हांगकांग की वैधानिक व्यवस्थाओं तथा सार्वजनिक सुरक्षा को खतरे में डाला गया है और राष्ट्रीय गरिमा और संप्रभुता का उल्लंघन किया गया है। हांगकांग में हुई हिंसक कार्यवाहियों की विश्व में व्यापक आलोचना की गयी है। लेकिन अमेरिका के कुछ राजनीतिज्ञों ने हांगकांग के विशेष शासन क्षेत्र की सरकार को "कानून, लोकतंत्र और स्वतंत्रता का सम्मान नहीं करने" का बदनाम किया।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी