चीन द्वारा उठाया गया टैरिफ़ विरोधी कदम अमेरिकी व्यापारिक दादागिरी के प्रति अपरिहार्य प्रतिक्रिया

2019-08-25 17:01:20

हाल में अमेरिका ने चीन से आयातित करीब 3 खरब डॉलर वाली वस्तुओं के प्रति 10 प्रतिशत टैरिफ़ बढ़ाने का औपचारिक एलान किया। चीन ने विवश होकर 23 अगस्त को विरोधी कदम उठाया। अमेरिका ने 24 अगस्त को चीन से अमेरिका तक करीब 5 खरब 50 अरब डॉलर की वस्तुओं के प्रति टैरिफ़ बढ़ाने की घोषणा की। चीन ने इसका कड़ा विरोध किया।

विदेशी विशेषज्ञों का विचार और अंतरराष्ट्रीय लोकमत है कि चीन ने विरोधी कदम उठाया, यह अमेरिकी व्यापारिक दादागिरी के खिलाफ़ अपरिहार्य प्रतिक्रिया है। अमेरिका ने व्यापारिक घर्षण छेड़ा और इसके स्तर को लगातार उन्नत किया। उसकी कार्रवाई से दूसरे को ही नहीं, खुद को भी नुकसान पहुंचा है। अमेरिका को आर्थिक क्षति पहुंचाने के साथ ही वैश्विक अर्थतंत्र को भी नुकसान पहुंचा है। अमेरिका को रचनात्मक भूमिका निभानी चाहिए और वार्ता से मतभेद के समाधान वाले रास्ते पर वापस लौटना चाहिए।

ब्रिटेन में लंदन अर्थतंत्र और वाणिज्य नीतिगत कार्यालय के पूर्व प्रधान जॉन रोस ने चीनी समाचार एजेंसी शिनहुआ को दिए एक ई-मेल इंटरव्यू में कहा कि अमेरिका ने बेवजह चीनी वस्तुओं के प्रति टैरिफ़ बढ़ाया, चीन का विरोधी कदम उठाना इसका अपरिहार्य जवाब है।

अमेरिकी कोलंबिया विश्वविद्यालय के अनवरत विकास केंद्र के प्रधान जेफ़री साक्स ने कहा कि चीन ने अमेरिका के टैरिफ़ बढ़ाने वाले निर्णय के प्रति उचित प्रतिक्रिया की। अमेरिका ने गलत रूप से माना कि चीन की आर्थिक सफलता अमेरिका द्वारा दी गई कीमत पर आधारित है।

अमेरिका में चीन-अमेरिका अनुसंधान केंद्र के जाने-माने विद्वान सौरभ गुप्ता के विचार में चीन का विरोधी कदम उठाना अप्रत्याशित नहीं है। चीन के कदम से बाहरी दुनिया को महत्वपूर्ण सूचना दी गई, यानी कि व्यापारिक वार्ता को संप्रभुता की समानता के आधार पर होना चाहिए। चीन एकतरफ़ा तौर पर अपने लिए निष्पक्ष स्पर्धा वातावरण की प्राप्ति के लिए टैरिफ़ कदम को नहीं छोड़ेगा।

भारतीय अर्थशास्त्री, भारतीय विकासशील देश अनुसंधान और सूचना व्यवस्था संस्था के सलाहकार भट्टाचार्य ने कहा कि चीन हमेशा उभय जीत वाला रूख अपनाता है। उसने विवश होकर विरोधी कदम उठाया। आशा है कि अमेरिका अपनी इच्छानुसार मनमाने ढंग से टैरिफ़ नहीं बढ़ाएगा।

विश्लेषकों के विचार में अमेरिका ने व्यापारिक घर्षण छेड़ा और इसका स्तर लगातार उन्नत किया, जिसके जवाब में चीन ने विरोधी कदम उठाया। इससे कम समय में बाज़ार में उथल-पुथल की स्थिति पैदा होगी। लंबे समय में उपभोक्ताओं का विश्वास कम होगा। अंत में अमेरिकी उद्योगों, मजदूरों और किसानों को नुकसान पहुंचेगा।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी