आतंकी धमकियों के मुकाबले में वास्तविक सहयोग मजबूत करने की जरूरत – चीन

2019-08-28 16:32:00

संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों को विश्व भर में आतंकवादी धमकियों से सतर्क रहना चाहिए। अंतरराष्ट्रीय समुदाय को मानव जाति के साझे भाग्य समुदाय वाली विचारधारा स्थापित कर वास्तविक सहयोग को मजबूत करना चाहिए। संयुक्त राष्ट्र स्थित चीनी उप स्थाई प्रतिनिधि वू हाईथाओ ने 27 अगस्त को सुरक्षा परिषद के खुले सम्मेलन में यह बात कही। यह सम्मेलन आतंकी कार्रवाई से अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा को धमकी संबंधी विषय से जुड़ा है।

वू हाईथाओ ने कहा कि हालांकि चरमपंथी संगठन आईएस को सैन्य मामलों में रुकावट मिली, लेकिन वह फिर भी विश्व को खतरा पहुंचाने वाला आतंकी संगठन है। आतंकवाद पर हमला करने के दौरान संयुक्त राष्ट्र और सुरक्षा परिषद की केंद्रीय समन्वय वाली भूमिका निभानी चाहिए। अंतरराष्ट्रीय समुदाय को राजनीतिक तरीके से गर्म मुद्दे के समाधान को आगे बढ़ाना चाहिए। यूएन के सदस्य देशों में अनवरत विकास को बखूबी अंजाम देने के लिए सहायता देनी चाहिए। विभिन्न सभ्यताओं और धर्मों के बीच समान संवाद और सामंजस्य सह-अस्तित्व को प्रोत्साहित करना चाहिए।

चीनी प्रतिनिधि वू हाईथाओ ने कहा कि चीन अंतरराष्ट्रीय आतंक विरोधी गुट में महत्वपूर्ण सदस्य है। चीन संयुक्त राष्ट्र, शांगहाई सहयोग संगठन आदि आतंकी विरोधी सहयोग में गहन रूप से भाग लेता है। चीन-यूएन शांति विकास कोष के माध्यम से चीन सदस्य देशों में आतंक विरोधी क्षमता के निर्माण का समर्थन करता है। चीन ने कुछ सदस्य देशों के बीच आतंक विरोधी सूचना का आदान-प्रदान, आतंकी वित्त पोषण और सीमा पार संगठनात्मक अपराध तथा नेटवर्क आतंकवाद पर हमला करने में कारगर सहयोग किया और अंतरराष्ट्रीय आतंक विरोधी संघर्ष में महत्वपूर्ण योगदान दिया। चीन विभिन्न देशों के साथ मिलकर आतंकवाद के खतरे का मुकाबला करना चाहता है। ताकि समान रूप से विश्व शांति और स्थिरता की रक्षा की जा सके।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी