तिब्बती सांस्कृतिक आदान-प्रदान दल ने डेनमार्क की यात्रा की

2019-09-23 10:32:00

चीनी राज्य परिषद द्वारा गठित तिब्बती सांस्कृतिक आदान-प्रदान दल ने 18 से 21 सितंबर तक डेनमार्क की यात्रा की। यात्रा के दौरान दल के सदस्यों ने तिब्बत के राजनीतिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और धार्मिक मुद्दों पर डेनमार्क के संबंधित जगतों के साथ आदान-प्रदान किया।

दल के सदस्यों ने कहा कि तिब्बत में तेज़ विकास केंद्र सरकार के समर्थन और पूरे देश की सहायता के बिना नहीं हो सकता। लोकतांत्रिक सुधारों के बाद पिछले 60 वर्षों में तिब्बत की अर्थव्यवस्था और समाज में बड़ी प्रगति हुई। लेकिन कुछ पश्चिमी देशों ने ऐतिहासिक तथ्यों की अनदेखी कर गलत को सही बताया, जिससे तिब्बत पर पश्चिमी लोगों को गलत जानकारी मिली। चीन और डेनमार्क के बीच मित्रता का मज़बूत आधार है। आशा है कि तिब्बत से जुड़े मुद्दों पर दोनों देश आदान-प्रदान मज़बूत करेंगे, ताकि गलतफहमी न हो।

डेनमार्क की संसद के अधिकारी ने कहा कि डेनमार्क सबसे पहले चीन के साथ राजनयिक संबंध स्थापित करने वाले पश्चिमी देशों में से एक है। अगले साल दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ है। डेनमार्क एक चीन की नीति पर कायम है और मानता है कि तिब्बत चीन की प्रादेशिक भूमि का एक अभिन्न भाग है। आशा है कि भविष्य में आदान-प्रदान और सहयोग का ज्यादा अवसर मिलेगा।

डेनमार्क चीनी तिब्बती सांस्कृतिक आदान-प्रदान दल की यूरोप यात्रा का अंतिम पड़ाव है। इससे पहले दल ने फिनलैंड और स्वीडन का दौरा किया था।

(ललिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी