टिप्पणीः वैश्विक जलवायु परिवर्तन का निपटारा करने के लिए चीन को पॉजिटिव ऊर्जा देनी चाहिए

2019-09-24 19:31:00

संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन कार्रवाई शिखर सम्मेलन 23 सितंबर को न्यूयार्क स्थित यूएन मुख्यालय में आयोजित हुआ। इसका मकसद यथार्थ आर्थिक क्षेत्रों में बड़े पैमाने वाली ठोस कार्यवाई करना है और जलवायु परिवर्तन का निपटारा करना है। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के विशेष दूत और चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने 23 सितंबर को यूएन मौसम परिवर्तन शिखर सम्मेलन में कहा कि चीन संजीदगी से यूएन मौसम परिवर्तन की ढांचागत संधि और पेरिस समझौते का कार्यान्वयन करेगा और समय पर खुद के लक्ष्य को साकार करेगा। यह चीन द्वारा फिर एक बार अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में जलवायु परिवर्तन के बारे में अपना वचन दिया है, जिस से एक जिम्मेदार देश का संकल्प व कर्तव्य प्रदर्शित किया गया है।

जलवायु परिवर्तन का निपटारा करने के लिए वर्तमान शिखर सम्मेलन में मौसम पूंजी और ऊर्जा बंदोबस्त आदि 9 क्षेत्रों पर जोर दिया गया। वर्तमान शिखर सम्मेलन से पहले चीन ने इस संदर्भ में चीन के रुख और एक्टशिन संबंधी एक रिपोर्ट जारी की। चीन ने स्पष्ट रूप से कहा कि चीन पेरिस समझौते का कार्यान्वयन करेगा और अपने वचन का पालन करेगा। यूएन महासचिव एंटोनियो गुटरेस ने कहा कि मौसम कार्यवाई में चीन की नेतृत्व भूमिका अति महत्वपूर्ण है।

हाल में वैश्विक प्रशासन कुंजीभूत समय में प्रवेश कर चुका है। विकसित देशों और विकासशील देशों के बीच समान लेकिन भिन्न कर्तव्य हैं। यह सिद्धांत अभी भी स्वीकार्य है। साथ ही इस का यथार्थ पालन किया जाना चाहिए। बहुपक्षीय प्रक्रिया में चीन हरित विकास और पारिस्थितिकी निर्माण पर कायम करता रहता है। निसंदेह चीन निरंतर सकारात्मक ऊर्जा देता रहेगा।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी