टिप्पणीः चीनी करिश्मा विश्व के लिए मौका देगा

2019-09-27 18:01:00

27 सितंबर को चीन सरकार ने नये युग में चीन और दुनिया नामक एक श्वेत पत्र जारी किया, जिस में तथ्यों व आंकड़ों से व्यापक रूप से नये चीन के विकास में प्राप्त उपलब्धियों, अनुभवों और विश्व को दिये गये अहम योगदान का सिंहावलोकन किया। चीन ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के चिंता वाले सवालों की प्रतिक्रिया की। चीन ने स्पष्ट एलान किया कि चीन हमेशा के लिए विश्व शांति के निर्माता, विश्व विकास के योगदान देने वाला देश, अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था की रक्षा करने वाला देश बनता है।

विश्व के सब से बड़ा विकासशील देश होने के नाते चीन दृढ़ता से अपने रास्ते पर चलता रहा है और खुद का काम अच्छी तरह अंजाम देता रहता है। यह विश्व शांति व विकास के लिए सब से बड़ा योगदान है। श्वेत पत्र ने विकास विचारधारा और यथार्थ कार्यवाई दो क्षेत्रों में गहन रूप से प्रकाश डाला।

स्वतंत्र शांतिपूर्ण विदेश नीति से भारत और म्यांमार के साथ शांतिपूर्ण सहअस्तित्व के पाँच सिद्धांतों तक, फिर मानव साझे भाग्य वाले समुदाय के विचारधारा तक, चीन ने सिलसिलेवार अहम विचारधारा पेश की हैं, जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय संबंध में सकारात्मक ऊर्जा डाली है।

नये चीन की स्थापना के पिछले 70 सालों में चीन कैसे भारी प्रगति हासिल कर सका है? चीन किस तरह की दुनिया के निर्माण को आगे बढ़ा रहा है? चीन दुनिया के साथ कैसे सहअस्तित्व करेगा? श्वेत पत्र अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के इन सवालों का जवाब देता है।

श्वेत पत्र में कहा गया कि चीन सहयोग व साझी जीत, समान विकास और आर्थिक भूमंडलीकरण पर कायम रखेगा, चीन बहुपक्षीयवाद का दृढ़ समर्थन करेगा, अंतर्राष्ट्रीय न्यायता की रक्षा करेगा, चीन बेल्ट एंड रोड के सहनिर्माण को आगे बढ़ाएगा, वैश्विक प्रशासन व्यवस्था के सुधार व निर्माण में सक्रिय रूप से भाग लेगा। यह दुनिया को चीन द्वारा दिया गया वचन है।

अगर दुनिया अच्छी हो, तो चीन अच्छा होगा। अगर चीन अच्छा होगा, तो दुनिया और बेहतर होगी। जैसे कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटरेस ने कहा था कि इतिहास साबित करेगा कि चीन का विकास ऐतिहासिक प्रवृत्ति है जो नहीं रोकी जा सकती है, साथ ही चीन का विकास मानव जाति की प्रगति का अहम योगदान भी है।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी