टिप्पणीः वैज्ञानिक और तकनीकी सृजन चीनी विकास का इंजन

2019-10-06 15:02:00

नये चीन की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में 90 वर्षीय चीनी महिला वैज्ञानिक और नोबेल चिकित्सा पुरस्कार विजेता थू योयो को गणराज्य पदक से सम्मानित किया गया ।थू योयो और उन की टीम ने चीनी परंपरागत चिकित्सा से ज्ञान सीखकर आर्टीनन्युन से मलेरिया के इलाज का उपाय निकाला ,जिस से विश्व भर में मलेरिया ग्रस्त लाखों लोगों की जान बचायी गयी ।यह चिकित्सा उपलब्धि नये चीन की वैज्ञानिक व तकनीकी प्रगति का एक लघुचित्र है ।

70वर्षों में चीन ने चीनी विशेषता वाले वैज्ञानिक और तकनीकी सृजन का रास्ता निकाला ,जो आर्थिक वृद्धि में निरंतर शक्ति डालता है ।बुनियादी वैज्ञानिक अनुसंधान में चीन ने सिलसिलेवार महत्वपूर्ण प्रगति हासिल की ।रसायन ,सामग्री और भौतिक शास्त्र में चीन विश्व के आगे चलता है ।चीन ने समानव अंतरिक्ष यात्रा ,चाँद सर्वेक्षण परियोजना ,पेइतो नेवेगेशन नेटवर्क ,क्वांटम दूर संचार जैसे बड़ी वैज्ञानिक व तकनीकी सफलताएं पायीं ।

वैज्ञानिक व तकनीकी क्षेत्र में असाधारण सफलता पाने का मुख्य कारण यही है कि चीन सरकार हमेशा विज्ञान व तकनीक को प्राथमिकता देती आयी है ।नये चीन की स्थापना के शुरू में चीनी सरकार ने विज्ञान से अभियान चलाने की अपील की ।सुधार और खुलेपन में सरकार ने यह निष्कर्ष निकाला कि विज्ञान व तकनीक पहली उत्पादक शक्ति है ।सीपीसी की 18वीं वर्षगांठ में चौतरफा सृजन रणनीति प्रस्तुत की गयी ।70वर्षों में उच्च स्तरीय डिजाइन ने चीनी वैज्ञानिक व तकनीकी सृजन में नाजुक भूमिका निभायी ।

गत वर्ष चीन में अनुसंधान और विकास की धनराशि 1,967 अरब 80 करोड़ युआन थी ,जो विश्व में दूसरे स्थान पर रही ।जीडीपी में अनुसंधान और विकास का अनुपात 2.19 प्रतिशत जा पहुंचा ,जो यूरोपीय संघ के औसत स्तर से अधिक था ।वर्ष 2013 से ही चीनी अनुसंधानकर्ताओं की संख्या अमेरिका से ज्यादा हो गयी है ।वर्तमान में चीन के आविष्कार पेटेंटों की संख्या विश्व के पहले स्थान पर रही।

वर्तमान में मानव नये दौर की वैज्ञानिक व तकनीकी क्रांति और व्यावसायिक क्रांति का सामना कर रहा है ।चीन का वैज्ञानिक व तकनीकी नवाचार निसंदेह आर्थिक वृद्धि में निरंतर नयी शक्ति डाल रहा है ।

(वेइतुंग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी