बहुपक्षीय व्यापार व्यवस्था से चीन और भारत के बीच आर्थिक और व्यापारिक सहयोग को नया अवसर मिला

2019-10-11 16:32:00

चीन और भारत दोनों विकासशील और नोवदित बाज़ार देश हैं, चीन और भारत दुनिया में एक अरब की आबादी वाले दो देश हैं। इधर के वर्षों में चीन और भारत के बीच आर्थिक और व्यापारिक क्षेत्र का लगातार विस्तार किया जा रहा है। इसमें बड़ी उपलब्धियां हासिल हुईं हैं।

चीनी वाणिज्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार 2018 चीन और भारत के बीच द्विपक्षीय व्यापार राशि 95 अरब 50 करोड़ अमेरिकी डॉलर रही, जो एक ऐतिहासिक रिकार्ड बना है। यह राशि चीन और दक्षिण एशिया के बीच कुल व्यापार राशि का 70 प्रतिशत हिस्सा है।

चीनी वाणिज्य मंत्रालय के अनुसंधान संस्थान के अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार अनुसंधान विभाग के उपाध्यक्ष बाई मिंग ने कहा कि चीन और भारत एक-दूसरे के बड़े पूरक हैं। हाल के वर्षों में दोनों देशों के बीच आर्थिक और व्यापारिक संबंधों के विकास में उल्लेखनीय प्रगति हासिल हुई है।

आंकड़ों के अनुसार चीन लगातार कई वर्षों तक भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार बना रहा है। इसके साथ भारत विदेश में चीन का महत्वपूर्ण निवेश गंतव्य देश और बुनियादी संस्थापनों के निर्माण के सहयोग का बाज़ार भी है। इस वर्ष के जुलाई के अंत तक चीनी उद्यमों ने भारत में 8 अरब 40 करोड़ अमेरिकी डॉलर का निवेश किया, जो दक्षिण एशिया के कुल निवेश का एक तिहाई हिस्सा है। बाई मिंग ने कहा कि दोनों पक्षों को क्षेत्रीय और बहुपक्षीय व्यापार व्यवस्था से सहयोग को घनिष्ठ करना चाहिए।

(वनिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी