टिप्पणी:सहयोग करना चीन और अमेरिका के लिए सबसे अच्छा विकल्प है

2019-10-13 19:31:01

चीन और अमेरिका के बीच नये चरण की व्यापार वार्ता 11 अक्तूबर को वाशिंग्टन में समाप्त हुई। दोनों पक्षों ने दोनों देशों के राजनेताओं की सहमतियों के मुताबिक कृषि, बौद्धिक संपदा अधिकार के संरक्षण, विनिमय दर, वित्तीय सेवा, व्यापार सहयोग, तकनीकी हस्तांतरण और मतभेदों के समाधान में काफ़ी प्रगतियां हासिल कीं और इसके पश्चात प्रबंध पर भी विचार विमर्श किया। वे अंतिम समझौता संपन्न करने की ओर समान प्रयास करने पर सहमत हुए।

खबर प्रसारित होने के बाद वैश्विक शेयर बाजारों में तेजी रही जिससे यह संकेत मिलता है कि चीन व अमेरिका के बीच व्यापारिक संबंधों का समाधान करना चीन, अमेरिका और सारी दुनिया के हित में है। इस चरण की वार्ता में काफी प्रगति प्राप्त होने से बाजार में विश्वास मिला है और इससे लोग दोनों देशों के बीच अंतिम समझौता संपन्न होने के प्रति विश्वस्त हो गये हैं।

व्यापार वार्ता करने के एक साल से ज्यादा समय में वार्ता के कार्यक्रम में बार-बार मोड़ आए। इसी दौरान दोनों पक्ष मतभेदों के समाधान में तर्कसंगत बने हुए। और उन्हें भी यह महसूस हुआ कि एक दूसरे का समादर करने के आधार पर मतभेदों को नियंत्रित करना चाहिये और आपसी लाभ के आधार पर सहयोग करना चाहिये। वार्ता के वर्तमान चरण में प्रगति होने दोनों पक्षों की मतभेद को काबू में पाने और सहयोग का विस्तार करने की कोशिशें साबित हैं। चीन विश्व में कृषि उत्पादों का सबसे बड़ा आयातक है और अमेरिका विश्व में कृषि उत्पादों का सबसे बड़ा निर्यातक है। कृषि के संदर्भ में दोनों देशों के बीच एक दूसरे का पूरक होने की आवश्यकता है। चीन बाजार के सिद्धांतों और विश्व व्यापार संगठन के नियमों के आधार पर अमेरिका के सोयाबीन और मांस जैसे उत्पाद खरीद करेगा जिससे अमेरिका के व्यापारिक घाटा को कम करने के साथ साथ चीन के घरेलू खपत को पूरा करने के लिए भी मददगार है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी