विश्व तिब्बती विद्यालय लाब्रांग मठ की 20 हजार से अधिक प्राचीन तिब्बती किताबों को डिजिटाइजेशन किया गया

2017-11-23 11:24:01

विश्व तिब्बती विद्यालय लाब्रांग मठ की 20 हजार से अधिक प्राचीन तिब्बती किताबों को डिजिटाइजेशन किया गया

कान सू प्रांत के तिब्बती प्राचीन साहित्य संकलन केन्द्र के उपाध्यक्ष ली दह्वा ने 22 नवंबर को कहा कि वर्ष 2014 के सितंबर से इस केंद्र ने लाब्रांग मठ के प्राचीन तिब्बती किताबों और तिब्बती साहित्य व्यवस्थित और संकलन का काम शुरू किया था। अब तक इस मठ की 20 हजार से अधिक प्राचीन तिब्बती किताबों का डिजिटाइजेशन किया गया है।

विश्व तिब्बती विद्यालय लाब्रांग मठ का 3 सौ से अधिक वर्षों का इतिहास है। यह तिब्बती बौद्ध धर्म गेलुपासै के सबसे बड़े मठों में से एक है। यहां पर चीन में तिब्बती ग्रंथों की संख्या सबसे अधिक, शैक्षणिक स्तर उच्चतम और उत्कृष्ट विद्वानों की संख्या भी अधिक है, जिसे विश्व तिब्बती विद्यालय कहा जाता है।

ली दह्वा ने कहा कि 3 वर्ष तक कान सू प्रांत के तिब्बती प्राचीन साहित्य संकलन केन्द्र ने लाब्रांग मठ की 20 हजार से अधिक प्राचीन तिब्बती किताबों को व्यवस्थित और संकलित किया, और इन्टरनेट पर पोस्ट किया। योजना के अनुसार 15 वर्षों में लाब्रांग मठ के सभी साहित्य संग्रह को डिजिटाइज़ किया जाएगा।

(वनिता)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी