बाल बच्चों की “बड़े दोस्त” शी चिनफींग के साथ नौ कहानियां

2018-05-31 11:09:01

कहानी 4:बच्चों के साथ युवा पॉयनियर में शामिल करने की अपनी कहानी का साझा किया

शी चिनफींग ने अक्सर बच्चों के साथ अपनी अपनी कहानियों को बांटा। शी चिनफींग ने बच्चों को बताया कि जब वे प्राइमरी स्कूल में पढ़ते थे, तब वे भी युवा पॉयनियर में शामिल नहीं होने के कारण रोये थे। जब वे चार पाँच साल के थे, मां ने उन्हें जातीय हीरो य्वे फेई की दंतकथा सुनाई। शी चिनफींग को देशभक्ति की भावना समझ में आने लगी थी। शी चिनफींग ने बच्चों को बताया कि उन्हें देशभक्ति की हमेशा से याद है और यह उनका जिन्दगी भर का लक्ष्य भी बना है।

कहानी 5:आपदा क्षेत्रों के बच्चों पर ध्यान रखते

वर्ष 2013 के अप्रैल 20 तारीख को पश्चिमी चीन के सछ्वान प्रांत के लूशान कस्बे में 7.0 तीव्रता वाला गंभीर भूकंप आया था। शी चिनफींग ने भूकंप से ग्रस्त क्षेत्रों में रहने वाले बच्चों को याद रखा। भूकंप ग्रस्त क्षेत्र का दौरा करते समय वे विशेष तौर पर बच्चों को देखने गये। तम्बू में शी चिनफींग ने डेढ़ साल के बच्चे लो च्वन छंग को चूमा। छोटे ने शी चिनफींग को “दादा जी” बोला। इस प्यार भरे दृश्य से स्थल पर सभी लोग प्रभावित हुए।

कहानी 6:ऑस्ट्रेलियाई बच्चों के साथ चिट्ठियों से संपर्क

साल 2014 में ऑस्ट्रेलिया के तस्मानिया स्टेट में 16 प्राइमरी स्कूली छात्रों ने राष्ट्रपति शी चिनफंग और उनकी पत्नी फंग लीयुआन को पत्र भेजा, जिसमें स्थानीय विशेष जानवरों, वनस्पतियों और प्राकृतिक दृश्यों का परिचय दिया गया है। उन्होंने चीनी अक्षरों से शी चिनफिंग दंपति को अपनी जन्मभूमि की यात्रा करने का निमंत्रण किया। यह कल्पना के बाहर है कि उनकी इस चिट्ठी को शी चिनफिंग और फंग लीयुआन के पास पहुंचाया गया। कुछ समय बाद शी चिनफिंग और फंग लीयुआन ने ऑस्ट्रेलिया की यात्रा की। इन प्राइमरी स्कूली छात्रों ने निमंत्रण पाकर खास अतिथि के रूप में उनके स्वागत समारोह में भाग लिया। शी ने उनसे स्नेहपूर्ण अभिवादन किया और अच्छी तरह चीनी भाषा सीखने, चीनी संस्कृति और इतिहास को अधिक जानने की प्रेरणा मिली। शी चिनफिंग ने कहा कि हमें चीन और ऑस्ट्रेलिया के बीच मित्रता के बीज की बुवाई से इसे और परिपक्व बनाना चाहिए।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी