अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध के पीछे आर्थिक मतभेद का राजनीतिकरण

2018-06-17 17:40:00

अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध के पीछे आर्थिक मतभेद का राजनीतिकरण

अमेरिका के जाने-माने विद्वान जेफ्री गैरेट ने हाल ही में यह बताया कि अमेरिका और चीन के बीच आर्थिक संघर्ष चलने की मूल वजह आर्थिक मतभेद का राजनीतिकरण करना ही है।

अमेरिका के पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के लॉडर इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड इंटरनेशनल स्टडीज़ के प्रधान जेफ्री गैरेट ने कहा कि अमेरिका में कुछ व्यक्तियों ने अमेरिका और चीन के बीच आर्थिक मतभेदों का राजनीतिकरण करने की कोशिश की है। इसी वजह से दोनों देशों के बीच आर्थिक संघर्ष जारी है।

उन्होंने कहा कि अमेरिका और चीन दुनिया में सबसे बड़े दो अर्थतंत्र हैं। उनके बीच मतभेद ही है। लेकिन वाणिज्य और अर्थव्यवस्था की दृष्टि से फर्क होने से एक दूसरे का पूरक भी किया जा सकता है। सहयोग करने के जरिये उभय जीत का लक्ष्य साकार हो सकेगा।

उन्होंने कहा कि चीन ने अपनी विकास योजना तैयार की है। अमेरिका को चीन के विकास में अपने हित से अनुकूल भागों को तलाशकर समान विकास कायम करना चाहिये।

लॉडर इंस्टीट्यूट के दूसरे मशहूर अनुसंधानकर्ता मौरो गुइलन ने कहा कि अमेरिका ने व्यापार संरक्षणवाद अपनाने का अपना अंतिम मौका पकड़ने की कोशिश की है। लेकिन भावी पाँच से दस सालों के भीतर चीन अमेरिका के विश्व में सबसे बड़े उपभोक्ता बाजार का स्थान ले लेगा। तब दूसरे देश भी अमेरिका के व्यापार संरक्षणवाद के निर्णय से मुक्त हो जाएंगे। आशा है कि अमेरिका और चीन उभय जीत के सिद्धांत पर कायम रहेंगे और अपने हितों और दुनिया के लिए हितकर माध्यम से मतभेदों का समाधान कर सकेंगे।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी