“व्यापार युद्ध से चीन और अमेरिका के बीच तीन नजरिया का संघर्ष जाहिर”- ल्यू श्याओमिंग

2018-07-09 18:43:00

ब्रिटेन स्थित चीनी राजदूत ल्यू श्याओमिंग

स्थानीय समय के अनुसार 8 जुलाई को ब्रिटेन के प्रमुख अखबार“द संडे टेलीग्राफ”के प्रिंट संस्करण और वैब संस्करण में ब्रिटेन स्थित चीनी राजदूत ल्यू श्याओमिंग द्वारा लिखित“व्यापार युद्ध से चीन और अमेरिका के बीच तीन नजरिया का संघर्ष जाहिर”लेख प्रकाशित किया गया। जिसमें ल्यू ने कहा कि चीन-अमेरिका व्यापार युद्ध सतह पर देखा जाए, तो व्यापार मुद्दा है, लेकिन वास्तविक तौर पर देखा जाए, तो चीन और अमेरिका के बीच तीन नजरिया वाला संघर्ष है, यानी कि वैश्विक नजरिया, सहयोग नजरिया और विकास नजरिया का संघर्ष।

राजदूत ल्यू श्याओमिंग ने विश्लेषण करते हुए कहा कि अमेरिका ने टैरिफ़ का डंडा पकड़ते हुए यूरोपीय संघ, कनाडा और जापान आदि पारंपरिक मित्रों के स्टील और एल्यूमीनियम उत्पादों के खिलाफ़ अधिक आयातित टैरिफ़ बढ़ाया, जिससे अमेरिका की प्रधानता वाली वैश्विक नजरिया दिखाई गई। मतलब है कि अमेरिका के लिए चाहे मित्र हो या दूसरे देश ही क्यों न हो, अगर उन्होंने अमेरिका के हितों को नुकसान पहुंचाया, तो अमेरिका जरूर जवाब देगा। लेकिन इसके विपरित, चीन आपसी सम्मान, न्याय और निष्पक्ष, सहयोग और उभय जीत की विचारधारा के आधार पर विश्व शांति की रक्षा करने और समान विकास को आगे बढ़ाने को मकसद बनाता है। यह दोनों देशों के बीच वैश्विक नजरिया का संघर्ष है।

वहीं, सहयोग नजरिया का संघर्ष यह है कि अमेरिका एकतरफ़ावाद और संरक्षणवाद का पालन करता है, जिसपर अंतरराष्ट्रीय समुदाय का व्यापक संदेह और विरोध किया जाता है। लेकिन चीन खुलेपन के साथ आपसी संपर्क, आपसी लाभ और उभय जीत वाली सहयोग नजरिया अपनाता है। चीन ने विश्व व्यापार संगठन के नियम की रक्षा करने, बहुपक्षीय व्यापारिक व्यवस्था का समर्थन करने और खुली विश्व अर्थतंत्र की स्थापना करने के लिए सक्रिय योगदान दिया।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी