चीन द्वारा प्रस्तुत प्रस्ताव से अफ्रीका में ऊर्जा इंटरकनेक्शन के विकास को बढ़ावा मिलेगा- गिनी के राष्ट्रपति सलाहकार

2018-12-30 16:01:08

गिनी गणराज्य के राष्ट्रपति के उच्च स्तरीय सलाहकार सियाला नाबी मौसा सीआरआई संवाददाता को इन्टरव्यू देते हुए

मौजूदा समय में अफ्रीका ऊर्जा और बिजली आदि क्षेत्रों में कई मुसिबतों और चुनौतियों का सामना कर रहा है, जिससे यहां विकास बाधित हो रहा है। इसी मुद्दे के समाधान के लिए जल ऊर्जा, पवन ऊर्जा और सौर ऊर्जा आदि स्वच्छ ऊर्जा में निवेश और विकास को मजबूत करना बहुत जरूरी है। हाल ही में गिनी गणराज्य के राष्ट्रपति के उच्च स्तरीय सलाहकार सियाला नाबी मौसा ने चाइना रेडियो इन्टरनेशनल के संवाददाता को दिए एक साक्षात्कार में कहा कि चीन द्वारा प्रस्तुत अफ्रीका में ऊर्जा इंटरकनेक्शन के विकास वाले प्रस्ताव से अफ्रीका को लाभ मिलेगा, जिससे अफ्रीकी देशों में ऊर्जा और बिजली की अनवरत विकास बढ़ेगी।

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने विश्व में ऊर्जा इंटरकनेक्शन की स्थापना वाला प्रस्ताव पेश किया, ताकि स्वच्छ और हरित तरीके से वैश्विक बिजली की मांग को पूरा किया जा सके। मौसा ने शी चिनफिंग की इस विचारधारा के प्रति आभार व्यक्त किया और कहा कि गिनी को बिजली की आवश्यकता है। देश में जल संसाधन और खनिज संसाधन बहुत प्रचुर है, बिजली के प्रयोग से गिनी में उद्योग का विकास किया जाना जरूरी है, ताकि देश में खनिज संसाधनों को अर्द्ध-निर्मित सामान या निर्मित सामान में परिवर्तित किया जा सके। इस तरह गिनी गणराज्य अफ्रीका में ऊर्जा इंटरकनेक्शन वाली परियोजना पर खासा ध्यान देता है। न केवल गिनी, बल्कि अखिल अफ्रीका को इससे लाभ उठाकर विकास को आगे बढ़ाया जा सकता है।  

यहां बता दें कि अफ्रीका में ऊर्जा इंटरकनेक्शन वैश्विक ऊर्जा इंटरकनेक्शन का महत्वपूर्ण भाग है। पश्चिमी अफ्रीका का उदाहरण लें तो इसी क्षेत्र के भीतर और बाहर के संसाधनों को इकट्ठा करके विभिन्न देशों के बीच बिजली नेटवर्क और सीमा-पार इंटरकनेक्शन के निर्माण को मजबूत किया जाएगा, ताकि क्षेत्रीय स्वच्छ ऊर्जा के विकास में मार्गदर्शन प्राप्त किया जा सके और बाहरी स्वच्छ बिजली ऊर्जा को लाया जा सके। इस तरीके से पश्चिमी अफ्रीका के आर्थिक सामाजिक विकास को सुरक्षित, इकोनॉमिक और स्वच्छ ऊर्जा की गारंटी दी जा सकती है।

मौसा के विचार में अफ्रीका में ऊर्जा नेटवर्क बहुत जरूरी है, जिसे विभिन्न देशों के राष्ट्रपतियों ने महत्व दिया है। ऊर्जा का विकास करना अफ्रीका के अर्थतंत्र और उद्योग के विकास करना ही है। अभी पश्चिमी अफ्रीकी देश वैश्विक ऊर्जा इंटरकनेक्शन के विकास और चीन द्वारा प्रस्तुत“बेल्ट एंड रोड”पहल की अधिक समझ लेने लगे हैं। संबंधित जानकारी प्राप्त करने के बाद लोगों को पता चलेगा कि अफ्रीका में ऊर्जा इंटरकनेक्शन की स्थापना के बाद विभिन्न देशों को बड़ा लाभ मिलेगा।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी