टिप्पणीः ट्रम्प ने पूर्व राष्ट्रपति जिमी कार्टर के साथ चीन पर चर्चा की

2019-04-17 19:11:00

टिप्पणीः ट्रम्प ने पूर्व राष्ट्रपति जिमी कार्टर के साथ चीन पर चर्चा की

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति जिमी कार्टर ने 15 अप्रैल को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने दो दिन पहले, पहली बार उन्हें फोन किया और चीन पर चर्चा करने की इच्छा जताई। ट्रम्प ने कहा कि वे बहुत चिंतित हैं कि चीन अमेरिका से आगे निकल जाएगा। अपने जवाब में कार्टर ने कहा कि इस पर चिंता करने की ज़रूरत नहीं पड़ती अगर अमेरिका युद्ध में सक्रिया नहीं होता। क्योंकि चीन ने इसमें कोई खर्च नहीं किया। यही कारण है कि चीन हमसे आगे है।

हाल ही में अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पीओ समेत कुछ अमेरिकी राजनीतिज्ञ चीन को बदनाम करने में सक्रिय हैं। इसके विपरीत कार्टर का बयान विवेकशील है, जिससे वरिष्ठ रणनीतिक दृष्टिकोण और राष्ट्रीय हित को लेकर बड़ी जिम्मेदारी ज़ाहिर हुई है। इससे हमें भी पता चला कि चीन-अमेरिका संबंधों के निपटारे में अमेरिका के पूर्व राजनीतिक अधिकारी जैसे विचारशील व्यक्तियों की भूमिका फिर भी महत्वपूर्ण है।

हम ट्रम्प की चिंता समझ सकते हैं। अमेरिका लम्बे समय से दुनिया का नम्बर एक देश रहा है। वह अन्य देशों द्वारा पीछे छोड़ा जाना पसंद नहीं करता। इस समय चीन की कुल आर्थिक मात्रा 900 खरब चीनी युआन है, जो विश्व के दूसरे स्थान पर है। इसे देखकर अमेरिका की चिंता और शक और बड़ा हो गया। अमेरिका का उग्रपंथ इस भावना का इस्तेमाल कर और ज्यादा राजनीतिक लाभ पाना चाहता है। उनके प्रोत्साहन में अमेरिका धीरे-धीरे 40 साल पहले के अपने विचार से दूर होता चला गया, जब चीन के साथ राजनयिक संबंध की स्थापना हुई थी। अमेरिका ने न सिर्फ बड़ा देश होने पर अपनी आवश्यक वैश्विक जिम्मेदारी छोड़ दी, बल्कि रणनीतिक प्रतिस्पर्धा के रूप में मानते हुए चीन के खिलाफ व्यापार युद्ध छेड़ा।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी