चीन और भारत के बीच समान रूप से फिल्म विकास रास्ते की नई खोज

2019-04-19 14:15:00

चीन और भारत के बीच समान रूप से फिल्म विकास रास्ते की नई खोज

इधर के सालों में चीनी बाजार में भारतीय फिल्मों ने अच्छी कमाई की और चीनी दर्शकों में लोकप्रियता भी दिन प्रति दिन बढ़ रही है। एशिया में बड़े फिल्म देश होने के नाते चीन और भारत के बीच फिल्म सहयोग में बड़ी निहित शक्ति मौजूद है। दोनों देशों के फिल्म जगतों के बीच संपर्क और आपसी समझ को आगे बढ़ाने और चीनी व भारतीय फिल्मकारों के बीच आदान-प्रदान और सहयोग को मजबूत करने हेतु 9वें पेइचिंग अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव ने 18 अप्रैल को पेइचिंग में“चीन-भारत फिल्म सह-निर्माण मंच”आयोजित किया। चीनी फिल्म के सहयोग निर्माण की कंपनी के जनरल मैनेजर म्याओ श्याओथ्येन, पेइचिंग सांस्कृतिक निवेश ग्रुप के बोर्ड अध्यक्ष चओ माओफ़ेई, चीनी युवा फिल्म निर्देशक वन मूये, सुप्रसिद्ध भारतीय फिल्म स्टार शाहरुख खान, मशहूर भारतीय फिल्म निर्देशक कबीर खान आदि चीनी और भारतीय फिल्मकारों ने मंच में भाग लिया। उन्होंने विभिन्न दृष्टि और आयाम से बातचीत की और चीन व भारत के बीच फिल्म के समान विकास के रास्ते पर विचार विमर्श किया। लक्ष्य है कि दोनों देशों के बीच फिल्म सहयोग को ज्यादा मौका मिल सके।

चीन और भारत के बीच समान रूप से फिल्म विकास रास्ते की नई खोज

फिल्म निर्देशक कबीर खान ने मंच में कहा कि चीनी दर्शक भारतीय संस्कृति को स्वीकार करते हैं। इस वजह से इधर के सालों में भारतीय फिल्मों को चीन में बड़ी सफलता मिली। उन्हें आशा है कि भविष्य में चीन और भारत के बीच ज्यादा फिल्म सहयोग किया जा सकेगा। न केवल फिल्म के आयात की बात है, बल्कि दोनों देशों की सांस्कृतिक पृष्ठभूमि में संयुक्त शूटिंग करना भी चाहिए। उनके विचार में यह विकास की एक बहुत अच्छी दिशा है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी