(इंटरव्यू) जानिए किस तरह काम करता है वैज्ञानिक व तकनीकी शब्दावली आयोग

2019-06-13 14:34:00

यहां बता दें कि शब्दावली आयोग की स्थापना 1961 में की गयी थी। तब से आज तक लगातार तकनीकी शब्दों के प्रचार-प्रसार के लिए कार्य चल रहा है। वर्तमान में आयोग के पास लगभग दस लाख शब्दों का संग्रह मौजूद है। दस लाख अंग्रेजी शब्दों के हिंदी व अन्य भाषाओं में पर्याय निर्धारित किए गए हैं। जहां तक तकनीकी शब्दों को पढ़ने में लिखने में आने वाली दिक्कत की बात है तो ये शब्द अपने आप में विशेष होते हैं, जो कि किसी विषय से संबंधित होते हैं। इसलिए आम लोगों को शायद ये मुश्किल लगते हैं।

इसके साथ ही केंद्रीय हिंदी निदेशालय का नेतृत्व कर रहे अवनीश कहते हैं कि 1960 में इस निदेशालय की स्थापना की गयी थी। निदेशालय का मुख्य कार्य, देवनागिरी लिपि के मानकीकरण के अलावा हिंदी, अन्य भारतीय व विदेशी भाषाओं में मानक कोश बनाने का है। निदेशालय हिंदी से हिंदी में कोश तैयार करता है। वहीं हिंदी से सभी 22 भारतीय भाषाओं में कोश का निर्माण किया जाता है। जबकि उक्त 22 भाषाओं से हिंदी में भी कोश बनाए जाते हैं।

अनिल आज़ाद पांडेय

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी