जी-20 मंच पर चीन की आवाज़

2019-06-25 11:44:00

इस हफ्ते चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग जी-20 ओसाका शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे। 2013 से अब तक शी चिनफिंग ने क्रमशः छह बार जी-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लिया और हमेशा खुलेपन और सहयोग, साझे विकास का आह्वान करते रहें। चीनी स्मार्ट और चीनी प्रस्ताव ने जी-20 के मंच पर गहरा चीनी निशान छोड़ा है।

2013: खुलापन

आर्थिक भूमंडलीकरण विकास की प्रवृत्ति है। 2013 में रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने पहली बार जी-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लिया था। उन्होंने चीन सरकार द्वारा खुलेपन विश्व अर्थतंत्र की रक्षा करने और आर्थिक भूमंडलीकरण की रक्षा करने के चीन का रुख जताया। उन्होंने कहा कि खिड़की खुलने से ताज़ा हवा अंदर आ सकेगी। संरक्षणवादी और मनमानी व्यापारी बचाव कदम उठाने से दूसरों को हानि पहुंचाने के साथ खुद को भी नुकसान पहुंचेगा।

2014: नवाचार

विश्व आर्थिक विकास के लिए नयी प्रेरणा शक्ति की खोज करना जी-20 का एक अहम कर्तव्य है। 2014 में शी चिनफिंग ने ऑस्ट्रेलिया के अब्रहम शिखर सम्मेलन में कहा कि हमें विकास के विचारधारण, नीति, तरीके का नवाचार कर विकास गुणवत्ता पर और महत्व देना चाहिए। हमें समग्र आर्थिक नीति और सामाजिक नीति के जोड़ने से संपत्ति की जीवित शक्ति को प्रेरित करना चाहिए।

2015: साझेदार भावना

2015 के तुर्की अनातोलिया शिखर सम्मेलन के दौरान शी चिनफिंग ने वैश्विक आर्थिक विकास और रोज़गार को बढ़ावा देने के लिए नुस्खा बताया। उन्होंने कहा कि हमें सुधार और नवाचार को आगे बढ़ाकर विश्व अर्थतंत्र के मध्यम और लम्बे विकास की नीहित शक्ति को मज़बूत करना चाहिए, खुलेपन विश्व अर्थंतंत्र की रचना कर अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और निवेश की जीवित शक्ति को प्रेरित करना चाहिए, 2030 अनवरत विकास कार्यक्रम का कार्यान्वयन कर न्यायपूर्ण और समावेशी विकास में प्रबल शक्ति डालनी चाहिए।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी