वांग ई ने भारतीय विदेश मंत्री के साथ की वार्ता

2019-08-12 20:42:00

12 अगस्त को चीनी स्टेट कॉसिलर व विदेश मंत्री वांग ई ने पेइचिंग में भारतीय विदेश मंत्री एस.जयशंकर के साथ वार्ता की।

वांग ई ने कहा कि वर्तमान की अंतर्राष्ट्रीय स्थिति में महत्वपूर्ण बदलाव आया है। चीन व भारत विश्व में बड़ी जनसंख्या वाले विकासशील देश व नवोदित आर्थिक समुदाय के रूप में विकास के नये चरण में गुजर रहे हैं। दोनों देश शांतिपूर्ण सहअस्तितव के पांच सिद्धांतों के आधार पर मैत्रीपूर्ण ढंग से रहते हैं, और आपसी लाभदायक सहयोग करते हैं। यह न सिर्फ दोनों देशों की जनता के बुनियादी व दीर्घकालीन हितों से मेल खाता है, बल्कि विश्व शांति व मानव की प्रगति के लिये नया योगदान भी देगा। दोनों पक्षों को दोनों देशों के नेताओं द्वारा प्राप्त महत्वपूर्ण सहमति को लागू करना, दोनों देशों के संबंधों में सुधार में प्राप्त उपलब्धियों पर ध्यान देना चाहिए। साथ ही आपसी विश्वास को मजबूत करते हुए सहयोग को गहन करने और द्विपक्षीय संबंधों के स्वस्थ व स्थिर विकास के लिये लगातार नयी शक्ति डालनी चाहिये।

एस.जयशंकर ने कहा कि वर्तमान विश्व में अनिश्चितता भरी हुई है। भारत-चीन संबंधों का वैश्विक राजनीति में अपना विशेष स्थान है। गत वर्ष दोनों देशों के नेताओं ने वूहान में सफलता से अनौपचारिक भेंट की। जिसने भारत-चीन संबंधों के विकास को मजबूत किया है। भारत इस वर्ष भारत में नेताओं की दूसरी अनौपचारिक भेंट करने की प्रतीक्षा में है। भारत चीन के साथ घनिष्ठ आदान-प्रदान करना चाहता है। ताकि भेंट सफलता से आयोजित हो सके, और दोनों देशों के संबंध एक नयी मंजिल पर पहुंच सके।

दोनों पक्षों का मानना है कि अगले साल चीन-भारत के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना की 70 वीं वर्षगांठ के अवसर पर महत्वपूर्ण संस्थागत संवाद की भूमिका निभानी चाहिये। व्यापार, निवेश, उत्पादन क्षमता, पर्यटन, सीमा व्यापार में सहयोग का विस्तार करते हुए रक्षा आदान-प्रदान को भी मजबूत बनाना है। भारत दूसरे चीन अंतर्राष्ट्रीय आयात एक्सपो में सक्रिय रूप से भाग लेगा।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी