प्रोफेसर चांग वेइवेइ:हांगकांग में “रंग क्रांति” असफल होगी

2019-08-31 23:15:00

इधर के दो महीनों में हांगकांग में कट्टरपंथी प्रदर्शनकारियों की विभिन्न तरह की हिंसक कार्रवाइयों का स्तर लगातार उन्नत हो रहा है, जिससे हांगकांग वासियों के जीवन पर गंभीर प्रभाव पड़ा और हांगकांग के अर्थतंत्र पर नकारात्मक असर हुआ। कुछ पश्चिमी राजनयिकों ने हांगकांग से संबंधित बात कहकर हांगकांग के मामलों और चीन के अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप किया। यहां तक कि उन्होंने हांगकांग मुद्दे को चीन-अमेरिका आर्थिक व्यापारिक वार्ता से जोड़ दिया।

“रंग क्रांति”निश्चित तरीके वाली चीज़ है, अगर इसे हांगकांग में प्रयोग किया गया, तो बिलकुल सफलता नहीं मिलेगी। शांगहाई में फ़ूतान विश्वविद्यालय के चीन अनुसंधान संस्थान के प्रधान प्रोफेसर चांग वेइवेइ ने हाल में“गर्म टिप्पणी”के संवाददाता को दिए एक इन्टरव्यू में यह बात कही।

उन्होंने कहा कि अमेरिकी राट्रीय लोकतंत्र कोष और सीआईए जैसी शक्तियों ने बड़ी संख्या में नेटवर्क लेखकों को प्रशिक्षण दिया। फिर इन्टरनेट और विभिन्न तरह की प्रशिक्षण योजनाओं से युवा लोगों को प्रभावित किया और छात्रवृत्ति का प्रयोग कर कई विद्वानों को प्रशिक्षण दिया। उन्होंने तथाकथित लोकतांत्रिक अहिंसा अभियान को प्रोत्साहन दिया, जिससे अरब दुनिया में सत्ता में उथल-पुथल हुआ करती थी, यह थी“अरब वसंत”क्रांति। लेकिन शीघ्र ही यह विफल होकर“अरब सर्दी”बन गई। हांगकांग में अवैध जनसमूह और हिंसक घटना हुए दो महीने हो चुके हैं। लोगों की नज़र में हिंसक कार्रवाइयों वाली“रंग क्रांति”का सार और इसके पीछे अमेरिका के काले हाथ दिन ब दिन स्पष्ट हो गए हैं।

क्या“हांगकांग संस्करण वाला अरब वसंत”पैदा होगा या नहीं ? इसकी चर्चा करते हुए प्रोफेसर चांग वेइवेइ ने कहा कि इसमें शत प्रतिशत विफलता मिलेगी। साल 2014 में हांगकांग में“चोंगह्वान पर कब्जा”वाला अवैध जनसमूह मामला हुआ। उस समय बीबीसी को दिए एक इन्टरव्यू में प्रोफेसर चांग ने कहा था कि यह गलत समय में गलत स्थल पर गलत अभियान है, जो 100 प्रतिशत विफल होगा। हांगकांग में किए गए लोकमत के अनुसार, हांगकांगवासियों और हांगकांग के युवाओं का सबसे ज्यादा ध्यान जनजीवन, रोजगार और रिहायशी मकान पर केंद्रित है। तथाकथित“रंग क्रांति”को आगे बढ़ाने वाली पश्चिमी शक्तियों ने युवाओं के क्रोध को हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र की सरकार तक स्थानातंरण कराया। लेकिन इस अभियान के शुरु होने के बाद हांगकांग के अर्थतंत्र को नुकसान पहुंचेगा। रिपोर्टों के अनुसार, अब तक हांगकांग में होटल अधिभोग दर में 50 प्रतिशत की कमी हुई। टैक्सी ड्राइवरों को 50 प्रतिशत से अधिक क्षति पहुंची। यह झटका वर्ष 2008 के वित्तीय संकट से भी बदतर है और लम्बे समय तक जारी रहेगा। इस तरह हांगकांग में तथाकथित“रंग क्रांति”वाला अभियान ज्यादा समय तक जारी नहीं रहेगा और वह जरूर विफल होगा।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी