चीन और जर्मनी के बीच सहयोग की निहित शक्ति बहुत बड़ी है

2019-09-06 16:50:00

जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने 6 सितंबर से चीन की दो दिवसीय औपचारिक यात्रा शुरू की।जर्मनी यूरोप में चीन का सब से बड़ा आर्थिक व व्यापारिक सहयोग साझेदार है। आर्थिक व व्यापारिक सहयोग भी निरंतर रूप से दोनों देशों के बीच सहयोग का एक महत्वपूर्ण क्षेत्र ही है। हाल ही में दोनों देशों के उद्योग व वाणिज्य जगत के जाने-माने लोगों और विशेषज्ञों ने संवाददाता से कहा कि जर्मन उद्यमों के प्रति चीन का आकर्षण बहुत बड़ा है। भविष्य में दोनों देशों के सहयोग के क्षेत्र बहुत विशाल होंगे और सहयोग की निहित शक्ति भी बहुत बड़ी होगी।

जर्मन मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार इस बार मर्केल के साथ एक जर्मन उद्यमी मंडल भी चीन में आया है। जर्मन उद्योग व वाणिज्य अखिल संघ के पेइचिंग कार्यालय के प्रमुख प्रतिनिधि जेंस हिल्दब्रैंट ने संवाददाता से कहा कि चांसलर मर्केल ने उद्यमी मंडल की विविधता पर बड़ा ध्यान दिया। इसमें बड़े उद्यम के साथ मध्य व लघु उद्यम भी शामिल हुए हैं। जर्मन बड़े ऑटोमोबाइल उद्यम के प्रधान इस प्रतिनिधि मंडल में मौजूद होंगे। उनके मुताबिक इस बार दोनों पक्ष शायद दस सहयोग समझौतों पर हस्ताक्षर करेंगे।

इस वर्ष से चीन व जर्मनी के बीच सहयोग का विकास स्थिर रहा। द्विपक्षीय व्यापार, द्विपक्षीय पूंजी-निवेश में वृद्धि हुई है। चीनी वाणिज्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार इस वर्ष के जनवरी से जुलाई तक चीन व जर्मनी के बीच द्विपक्षीय व्यापार की रकम 1 खरब 6 अरब 93 करोड़ अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गयी, जो गत वर्ष की समान अवधि की अपेक्षा 2.4 प्रतिशत अधिक रही। चीन में जर्मनी द्वारा लगायी गयी नयी पूंजी-निवेश 1 अरब 17 करोड़ अमेरिकी डॉलर है, जिस में 62.7 प्रतिशत की वृद्धि हुई। उधर जर्मनी में चीन द्वारा लगायी गयी नयी पूंजी-निवेश 1 अरब 1 करोड़ अमेरिकी डॉलर है, जिसमें 27.6 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

चंद्रिमा

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी