टिप्पणी : चीनी गरीबी उन्मूलन ने वैश्विक गरीबी उन्मूनल का रास्ता प्रशस्त किया

2019-10-05 14:13:00

सीआरआई ने 4 अक्तूबर को “चीनी गरीबी उन्मूलन ने वैश्विक गरीबी उन्मूलन का रास्ता प्रशस्त किया” शीर्षक एक टिप्पणी आलेख जारी किया।

आलेख में कहा गया कि नये चीन की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ के मौके पर 90 वर्षीय चीनी कृषि वैज्ञानिक युआन लोंगपिंग को गणराज्य पदक से सम्मानित किया गया। युआन लोंगपिंग लंबे समय तक संकर धान के अनुसंधान और प्रचार में संलग्न रहे हैं, जिन्होंने चीनी अनाज सुरक्षा और विश्व अनाज की आपूर्ति में असाधारण योगदान दिया है। पिछली सदी के 70 वाले दशक में युआन लोंगपिंग की संकर धान तकनीक की सफलता के बाद चीन ने अनाज की आत्म निर्भरता को सुनिश्चित किया। चीन विश्व की 9 प्रतिशत खेती से विश्व की लगभग 20 प्रतिशत आबादी को पेट भरता है। अनाज की पैदावार विश्व के पहले स्थान पर बनी हुई है। इसके साथ ही चीनी गरीबी उन्मूलन में विश्व को चौंका देने वाली उपलब्धि हासिल हुई है। 70 वर्षों में चीन ने कुल 85 करोड़ लोगों को गरीबी से छुटकारा दिलाया। वर्ष 2013 से वर्ष 2018 तक हर साल 1 करोड़ 20 लाख लोग गरीबी से मुक्त हुए हैं। विश्व गरीबी उन्मूलन में चीन का योगदान 70 प्रतिशत से अधिक है। योजनानुसार अगले साल चीन अति गरीबी दूर करने का लक्ष्य पूरा करेगा।

विश्व में सबसे बड़ा विकासशील देश होने के नाते चीन की गरीबी उन्मूलन की उपलब्धि से वैश्विक गरीबी प्रक्रिया को गति मिली है। चीन ने न सिर्फ समय से पहले संयुक्त राष्ट्र गरीबी उन्मूलन का लक्ष्य पूरा किया, बल्कि व्यापक एशियाई और अफ्रीकी देशों को किसी भी राजनीतिक शर्त के बिना सहायता देने की यथासंभव कोशिश करता है। 70 वर्षों में चीन ने 170 देशें व क्षेत्रों और अंतरराष्ट्रीय संगठनों को 4 खरब युवान से अधिक धनराशि प्रदान की, 6 लाख से अधिक राहतकर्ताओं को भेजा और 5000 से अधिक सहायता परियोजनाएं लागू की, जिससे एक बड़े देश की जिम्मेदारी जाहिर हुई। चीनी गरीबी उन्मूलन के तरीकों और अनुभवों ने वैश्विक गरीबी उन्मूलन कार्य के लिए चीन ने बुद्धिमत्ता और योजना प्रदान की है। (वेइतुंग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी