​चीनी प्रधानमंत्री और जर्मन चांसलर के बीच वार्ता हुई

2018-05-25 11:34:19

चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग ने 24 मई को पेइचिंग में जर्मनी की चांसलर एंजेला मार्केल के साथ वार्ता की। ली ने कहा कि चीन और जर्मनी की नए सत्र की सरकारों को समान प्रयास करके योजना को मजबूत बनाना चाहिए, ताकि विक्षिन्न क्षेत्रों में आपसी लाभ वाले सहयोग को आगे बढ़ाया जा सके और चीन-जर्मनी सहयोग का नया इंजन बनाया जा सके।

इस वर्ष चीन और जर्मनी की नए सत्र की सरकार गठित होने के बाद पहला कार्य वर्ष है। चांसलर मार्केल अपना चौथा कार्यकाल शुरु करने के बाद पहली बार चीन आईं। दोनों देशों के प्रधान मंत्रियों के बीच हुई वार्ता में ली खछ्यांग ने कहा कि चीन और जर्मनी को व्यापक क्षेत्रों में जोड़ना चाहिए। वित्त, व्यापार, निवेश और सुरक्षा जैसे क्षेत्रों में संपर्क और आदान-प्रदान मज़बूत करना चाहिए, ताकि भविष्य में द्विपक्षीय सहयोग का नया दिशा निर्देश बनाया जा सके।

ली खछ्यांग ने बल देते हुए कहा कि वर्तमान स्थिति में चीन चीन-यूरोप निवेश संधि वार्ता को आगे बढ़ाने की प्रतिक्षा में है, और यूरोप पक्ष के साथ मिलकर बहुपक्षवाद और बहुपक्षीय व्यापारिक व्यवस्था की रक्षा करना चाहता है। ताकि व्यापार और निवेश की मुक्ति और सुविधा को आगे बढ़ाया जा सके।

चांसलर मार्केल ने कहा कि जर्मनी चीन के प्रति संबंध को बहुत महत्व देता है। दोनों पक्षों के बीच घनिष्ठ संपर्क कायम रखना और उच्च स्तरीय आवाजाही में गति देना अत्यंत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कहा कि वे कुछ दिन बाद जर्मनी में आयोजित नए चरण की जर्मनी-चीन सरकारी वार्ता की प्रतिक्षा में हैं। उन्हें आशा है कि दोनों पक्षों के बीच विभिन्न स्तरीय वार्ता नियमित रूप से आयोजित होंगी। जर्मनी चीन के साथ अर्थतंत्र, व्यापार, विज्ञान तकनीक और स्वचालित ड्राइविंग आदि क्षेत्रों में व्यापक सहयोग को मज़बूत करना चाहता है और अपने देश में चीनी कारोबारों के निवेश का भी स्वागत करता है। मार्केल ने कहा कि जर्मनी-चीन सहयोग वैश्विक और बहुपक्षीय परिस्थिति के लिए सक्रिय योगदान देगा। यूरोप और चीन के बीच संबंधों की मजबूती के लिए जर्मनी प्रयासरत है।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी