टिप्पणी:अमेरिका के खिलाफ़ चीन का जवाबी कदम संयम भरा और लचीला है

2018-08-04 20:09:03

हाल ही में अमेरिका ने चीन से आयातित 2 खरब डॉलर की वस्तुओं पर 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत कर वसूलने का कदम उठाया है। चीनी राज्य परिषद के अधीन कर सिद्धांत परिषद ने 3 अगस्त की रात अमेरिका से आयातित 60 अरब अमेरिकी डॉलर की वस्तुओं पर क्रमशः 25 प्रतिशत, 20 प्रतिशत, 10 प्रतिशत और 5 प्रतिशत ज्यादा कर वसूलने का फैसला किया। कर वसूलने का समय अमेरिका की कार्रवाई के अनुसार तय किया जाएगा। चीनी वाणिज्य मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि चीन के उपरोक्त अलग कर वसूलने का कदम तर्कसंगत और संयमभरा है। चीन अमेरिका की कार्रवाई के मद्देनज़र अन्य जवाबी कदम उठाने का अधिकार सुरक्षित करेगा।

वास्तव में चीन ने विवश होकर यह उपरोक्त कदम उठाया है। 11 जुलाई को अमेरिका ने चीन से आयातित 2 खरब अमेरिकी डॉलर की वस्तुओं पर अतिरिक्त 10 प्रतिशत कर वसूलने की सूची सार्वजनिक की। चीन ने दोनों देशों के नागरिकों और उद्योगों के हितों को बनाए रखने के लिए तर्कसंगत तौर पर जवाबी कदम उठाने पर सोच-विचार किया। दो दिन पूर्व अमेरिका ने एक तरफ़ चीन के साथ बातचीत करने की बात कही, वहीं दूसरी तरफ़ कर की दर को 25 प्रतिशत तक बढ़ाने की बात कही। व्हाइट हाउस के इस तरह के दबाव डालने और ब्लैकमेल करने की हरकत से पूरा अंतरराष्ट्रीय समुदाय अवगत है। इस तरह अमेरिका द्वारा प्रस्तुत ज्यादा कर वसूलने वाली खबर पर कोई खासा ध्यान केंद्रित नहीं हुआ। लेकिन चीन के खिलाफ़ अमेरिका बार-बार स्थिति को और ज्यादा बिगाड़ रहा है, जिससे चीन के राष्ट्रीय हितों और जनता के हितों को नुकसान पहुंचा। इस तरह चीन को विदेशी व्यापार कानून, आयात निर्यात कर नियमावली आदि विधियों और अंतरराष्ट्रीय कानून के बुनियादी सिद्धांतों के आधार पर विवश होकर जवाबी कदम उठाया। चीन ने इसलिए यह कदम उठाया, क्योंकि व्यापार युद्ध के स्तर बढ़ने से रोक सके, जनता के प्रति जिम्मेदारी उठाते हुए मुक्त व्यापार, बहुपक्षीय व्यवस्था और विश्व के विभिन्न देशों के समान हितों की रक्षा कर सके।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी