टिप्पणीः हजारों मीटर ऊपर से चीन को देखते, तो लोग क्या देखते हैं?

2018-09-17 17:55:01

टिप्पणीः हजारों मीटर ऊपर से चीन को देखते, तो लोग क्या देखते हैं?

दो दिवसीय चीनी विकास उच्च स्तरीय मंच की विशेष संगोष्ठी 16 सितंबर को पेइचिंग में आयोजित हुई। देश विदेश से आए करीब 800 मेहमानों ने नये युग में चीन के सुधार व खुलेपन के लिए सुझाव पेश किये। चीन स्थित विश्व बैंक के सर्वोच्च प्रतिनिधि, अमेरिकी जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर पीटर बोटलियर ने कहा कि उन्होंने 20 से ज्यादा साल तक चीन में काम नहीं किया। उन्हें लगता है कि वे हजारों मीटर ऊंचे आसमान से चीन को देखते होते। तो हजारों मीटर ऊंचे आसमान से चीन को देखते, तो चीन और विश्व क्या देखते हैं?

सब सफलताएं और आत्मविश्वास देख सकते हैं। पिछले 40 सालों में चीन स्वेच्छा से दुनिया में शामिल हुआ। चीन ने सुधार व खुलेपन के जरिए देश के 70 करोड़ चीनियों को गरीबी से छुटकारा दिलाया। चीन में औसत व्यक्ति की जीवन प्रत्याशा 1981 की 67.8 से बढ़कर 2017 की 76.7 तक पहुंच चुकी है। 2017 में चीन में औसत व्यक्ति का जीडीपी करीब 9000 अमेरिकी डॉलर था, जो मध्यम आमदनी वाले देशों के औसत स्तर से अधिक है।

टिप्पणीः हजारों मीटर ऊपर से चीन को देखते, तो लोग क्या देखते हैं?

साथ ही लोग घाटे और चुनौतियां देखते हैं। चीन और विश्व के बीच घाटा भी मौजूद है। विश्व के 190 से ज्यादा देशों व क्षेत्रों में चीन में औसत व्यक्ति का जीडीपी सिर्फ 70वें स्थान पर रहा। गत वर्ष के अंत तक देश में 3 करोड़ से ज्यादा लोगों को गरीबी से छुटकारा पाने की आवश्यक्ता है। विश्व बैंक के पूर्व गर्वनर रॉबर्टर जोलिक का मानना है कि भविष्य में चीन को तीन चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा, जिन में अनवरत विकास और समावेशी विकास को आगे बढ़ाना और विश्व पर चीन के प्रभाव का किस तरह बर्ताव करना आदि शामिल हैं।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी