टिप्पणी:चीन की "नंबर 1 दस्तावेज़" में जारी सकारात्मक सूचना

2019-02-21 19:34:00

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय कमेटी और राज्य परिषद ने 19 फरवरी को कृषि, ग्रामीण क्षेत्र, किसानों से जुड़े सवालों के अच्छी तरह निपटारा से संबंधित नम्बर एक दस्तावेज़ प्रकाशित किया, जिसमें चीनी सर्वोच्च नेतागण के कृषि के प्रति अत्यंत महत्व का प्रतीक है।

चीन में कृषि, ग्रामीण क्षेत्र और किसान सवाल का फोकस अनाज सुरक्षा ही है। चीन की जनसंख्या विश्व का 20 प्रतिशत रहती है जबकि चीन की खेती केवल विश्व का दस प्रतिशत भाग रहती है। अनाज सुरक्षा चीन के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण बात है। इस वर्ष की "नंबर 1 दस्तावेज़" में अनाज सुरक्षा को महत्व देने के साथ-साथ कृषि के आपूर्ति पक्ष संरचनात्मक रुपातंर पर भी जोर दिया गया है। चीन के इतिहास में प्राप्त जो अनुभव है, वह अनाज का भंडारण ही है। चीनी राष्ट्रपति शी शिनफिंग ने अनेक बार जोर देते हुए कहा कि चीनी लोग अनाज की गारंटी को सुनिश्चित करना चाहिये। इस वर्ष की नम्बर 1 दस्तावेज़ में यह प्रस्तुत किया गया है कि इस वर्ष में अनाज बोने वाले खेत का क्षेत्रफल 11 करोड़ हेक्टेयर तक सुनिश्चित किया जाना चाहिये और वर्ष 2020 तक 5.3 करोड़ उच्च मानक खेत का निर्माण सुनिश्चित करना चाहिये। चावल और गेहूं की गारंटी के अतिरिक्त मकई आदि अनाज के उत्पादन को सुनिश्चित करना चाहिये और अनाज सुरक्षा की गारंटी के लिए कानून निर्माण में तेज़ी लानी चाहिये। इससे चीन की विश्व में सबसे बड़ा विकासमान देश होने के नाते अपनी अनाज सुरक्षा को सुनिश्चित करने की कल्पना जाहिर हुई है।

वर्तमान में चीन की कृषि में आपूर्ति और खपत के बीच असंतुलन होने की समस्या उभरती रही है। गत वर्ष में आयोजित प्रथम चीनी अंतर्राष्ट्रीय आयात एक्सपो में विश्व के सौ से अधिक देशों के एक हजार से अधिक उद्यमों द्वारा प्रदर्शित उत्पादन वस्तुओं का खूब स्वागत किया गया है। इस वर्ष से ब्राजील के बीफ, ऑस्ट्रेलिया के दूध, नॉर्वे के मछली और थाइलैंड के कद्दू आदि कृषि उत्पादों का चीन में आयात होने लगा है। चीनी लोगों की भोजन खपत को पूरा करने के लिए नम्बर 1 दस्तावेज़ ने देश में आवश्यक खाद्य पदार्थों के आयात का विस्तार करने की मांग की। साथ ही खाद्य पदार्थों के ज्यादा आयात मार्ग भी तलाशना पड़ेगा।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी