चीन-रूस-भारत के विदेश मंत्रियों के बीच त्रिपक्षीय भेंटवार्ता

2019-02-27 20:04:00

चीन-रूस-भारत के विदेश मंत्रियों के बीच त्रिपक्षीय भेंटवार्ता

2019 के 27 फरवरी को चीनी स्टेट काउंसुलर और विदेश मंत्री वांग यी, रूसी विदेश मंत्री लावरोव और भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने दक्षिण पूर्वी चीन के वूजन में 16वीं त्रिपक्षीय भेंटवार्ता की।

चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने अध्यक्षता की। उन्होंने कहा कि हाल में दुनिया में भारी परिवर्तन आ रहा है। इस अहम वक्त में विश्व के तीन बड़े देशों और तीन प्रमुख नवोदित आर्थिक समुदाय होने के नाते चीन, रूस और भारत को अपना कर्तव्य निभाकर समनव्य को मजबूत कर सहयोग को प्रगाढ़ करना चाहिए। ताकि विश्व की शांति व स्थिरता को आगे बढ़ाते हुए मानव जाति के विकास व प्रगति में सकारात्मक ऊर्जा डाल सकें। तीनों देशों को संयुक्त राष्ट्र संघ के केंद्र वाली अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था की दृढ़ रक्षा करनी चाहिए, आतंकवाद विरोधी सुरक्षा सहयोग को गहरा करना चाहिए और विश्व की शांति व स्थिरता की समान रक्षा करनी चाहिए। तीनों देशों को एकतरफावाद और संरक्षणवाद का दृढ़ विरोध करना चाहिए, खुलेपन विश्व अर्थतंत्र की रचना को आगे बढ़ाना चाहिए।

चीन-रूस-भारत के विदेश मंत्रियों के बीच त्रिपक्षीय भेंटवार्ता

भेंटवार्ता में रूसी विदेश मंत्री और भारतीय विदेश मंत्री ने कहा कि तीनों देशों अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को संयुक्त राष्ट्र चार्टर व सिद्धांत के मुताबिक अंतर्राष्ट्रीय कानूनों व सिद्धांतों का पालन कर विश्व व क्षेत्र की शांति व स्थिरता की रक्षा करनी चाहिए। गत वर्ष तीनों देशों के नेताओं ने अर्जेंटीना में अनौपचारिक भेंटवार्ता की, जिसने त्रिपक्षीय सहयोग के लिए राजनीतिक दिशा दी। जटिल अंतर्राष्ट्रीय परिस्थिति के मद्देनजर तीनों देशों को संयुक्त राष्ट्र संघ, जी 20 समूह, ब्रिक्स सहयोग, शांगहाई सहयोग संगठन आदि बहुपक्षीय प्लेटफार्म के सहारे शांति, सुरक्षा और आर्थिक विकास आदि क्षेत्रों में समन्वय व सहयोग को और मजबूत करना चाहिए और अंतर्राष्ट्रीय व क्षेत्रीय गर्म सवालों का अच्छी तरह निपटारा करना चाहिए। ताकि मानव जाति के सामने आयी विभिन्न चुनौतियों का निपटारा करने के लिए सक्रिय योगदान दिया जा सकें।

भेंटवार्ता के बाद तीनों देशों ने संयुक्त विज्ञप्ति जारी की।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी