टिप्पणी:चीन और अमेरिका के जिम्मेदारी उठाने पर विश्व की प्रतीक्षा

2019-04-06 16:41:00

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने 4 अप्रैल को ह्वाइट हाउस में चीन के प्रमुख व्यापार वार्ताकार ल्यू ह से भेंट की और चीन व अमेरिका के बीच जल्द ही ऐतिहासिक व्यापार समझौता संपन्न करने की आशा जतायी। उन्होंने प्रेस को बताया कि अमेरिका और चीन को विश्व के प्रति जिम्मेदारी उठानी चाहिये।

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने इससे पहले अनेक बार कहा कि चीन और अमेरिका को विश्व की शांति व समृद्धि को बढाने के लिए समान जिम्मेदारी उठानी पड़ेगी। ल्यू ह के माध्यम से राष्ट्रपति ट्रम्प को पहुंचायी गयी अपनी मौखिक सूचना में शी ने जोर देते हुए कहा कि चीन-अमेरिका संबंधों के स्वस्थ विकास से दोनों देशों और यहां तक सारी दुनिया की जनता के हित के अनुकूल है।

वास्तव में विश्व के सामने अभूतपूर्व परिवर्तन आने की स्थिति में सारी दुनिया को उम्मीद है कि चीन और अमेरिका को तीन प्रमुख जिम्मेदारियां उठानी चाहिये। यानि कि पहला है विकास की जिम्मेदारी। चीन और अमेरिका विश्व के दो प्रमुख अर्थव्यवस्था होने के नाते विश्व के विकास को बढ़ावा देने में अनिवार्य जिम्मेदारी उठानी पड़ती है। लेकिन गत वर्ष से हुए व्यापार घर्षण से विश्व दायरे में आर्थिक मंदी नजर आ रही है। विश्व व्यापार संगठन का अनुमान है कि इस वर्ष की औसत आर्थिक वृद्धि दर 3.7 से घटकर 2.6 प्रतिशत तक गिर पड़ेगी। इस स्थिति में चीन और अमेरिका के बीच उभय जीत वाले व्यापार समझौते के हस्ताक्षरण से विश्व में विश्वास बिठाया जाएगा। दूसरा है शांति की जिम्मेदारी। मानव के सामने अनेक चुनौतियां मौजूद हैं। चीन और अमेरिका दोनों को विश्व में शांति बनाये रखने की जिम्मेदारी प्राप्त है। हाल ही में चीन ने 1 मई से फेंटानिल दवाओं को सख्त नियंत्रित नाम सूची में करने की घोषणा की। राष्ट्रपति ट्रम्प ने ल्यू ह से भेंट के दौरान इस बात लेकर आभार प्रकट किया। उन का मानना है कि अमेरिका और चीन के संयुक्त रूप से मादक दवा विरोधी कार्यवाही अपनाने से महत्वपूर्ण है। तीसरा है शासन की जिम्मेदारी। इधर के वर्षों में एकतरफावाद, संरक्षणवाद और लोकलुभावनवाद के उभरने से द्वितीय महा युद्ध की समाप्ति पर स्थापित विश्व व्यवस्था को भंग होने का खतरा मौजूद रहा है। अनेक देशों ने विश्व व्यापार संगठन में सुधार करने की मांग की। लेकिन अंततः इस संगठन के रुपांतर के लिए विभिन्न सदस्यों के विचार विनिमय से आधार होना चाहिये।

अमेरिका के भूतपूर्व राजनयिक निकोलस प्लैत ने कहा कि चीन और अमेरिका के बीच एकीकृत संबंध मौजूद है। किसी पक्ष को हानि पहुंचाने से खूद को भी समान नुकसान पहुंचाया जाएगा। इसलिए चीन और अमरिका को अच्छी तरह सहयोग करना चाहिये, और इस के बजाये दूसरा विकल्प नहीं है। वर्तमान में सबसे महत्वपूर्ण बात है मतभेदों को नियंत्रित करना और सहयोग का विस्तार करना जो दोनों देशों के लिए अहम बात ही है। इससे न सिर्फ दोनों देशों की जनता के मूल हितों के अनुकूल है, बल्कि चीन और अमेरिका को विश्व के प्रति समान जिम्मेदारी साबित होगी।

 ( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी