दूसरा चीन-मध्यपूर्वी यूरोपीय देशों का सांस्कृतिक विरासत मंच उद्घाटित

2019-04-11 16:12:00

दूसरा चीन-मध्यपूर्वी यूरोपीय देशों का सांस्कृतिक विरासत मंच 10 अप्रैल को मध्य चीन के हनान प्रांत के ल्वोयांग शहर में उद्घाटित हुआ। दोनों क्षेत्रों से आए सरकारी अधिकारियों, विशेषज्ञों और विद्वानों समेत सौ से अधिक अतिथियों ने भाग लिया। उन्होंने“विश्व सांस्कृतिक विरासत के आवेदन, प्रबंधन, पुरातात्विक अनुसंधान और सांस्कृतिक अवशेषों की रक्षा”वाली विषय-वस्तु पर पेशेवर ढंग से आदान-प्रदान और बातचीत की।

चीनी राष्ट्रीय सांस्कृतिक विरासत ब्यूरो के प्रधान ल्यू य्वीचू भाषण देते हुए

चीन-मध्य पूर्वी यूरोपीय देशों का सांस्कृतिक विरासत मंच दोनों पक्षों द्वारा स्थापित सहयोग मंच है, जो चीन और मध्य-पूर्वी यूरोपीय देशों के बीच सहयोग यानी 16 प्लस 1 सहयोग का नया कदम है। चीनी राष्ट्रीय सांस्कृतिक विरासत ब्यूरो के प्रधान ल्यू य्वीचू ने उद्घाटन समारोह में भाषण देते हुए कहा:“‘बेल्ट एंड रोड’पहल के लगातार मार्गदर्शन पर‘16 प्लस 1 सहयोग’व्यवस्था के निरंतर आगे बढ़ने से दोनों पक्षों के बीच सांस्कृतिक विरासतों से जुड़े आदान-प्रदान और सहयोग में बेहतर विकसित रूझान सामने आया है। सांस्कृतिक विरासतों की प्रदर्शनी सक्रिय रही, जो‘16 प्लस 1 सहयोग’का स्वर्णिम नामपत्र बन चुका है। चीन ने 6 सालों में मध्य-पूर्वी यूरोपीय देशों में चीनी सांस्कृतिक विरासतों से जुड़ी कुल 12 प्रदर्शनियां आयोजित कीं, चीनी सांस्कृतिक वस्तुओं की प्रदर्शनी पहली बार चेक, लातविया में आयोजित हुईं, जो चीन और चेक के बीच कूटनीतिक संबंध स्थापना की 65वीं वर्षगांठ, चीन और लातविया के बीच कूटनीतिक संबंध स्थापना की 25वीं वर्षगांठ मनाने का भव्य सांस्कृतिक समारोह था। इसके साथ ही चेक, पोलैंड, हंगरी और रोमानिया ने चीन में 6 सांस्कृतिक विरासतों की प्रदर्शनी आयोजित कीं। प्रदर्शनी का दायरा विस्तृत हो रहा है और संबंधित तरीकों और नमूनों में भी नवाचार किया जा रहा है। इन प्रदर्शनियों से न केवल द्विपक्षीय सभ्यताओं, संस्कृतियों और कूटनीतियों में आदान-प्रदान समृद्ध हुआ, बल्कि दोनों पक्षों के नागरिकों के बीच संपर्क भी मजबूत हुआ।”

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी