नौंवें पेइचिंग अंतर्राष्ट्रीय फिल्मोत्सव में बॉलिवुड कलाकारों का प्रेस सम्मेलन

2019-04-18 18:41:00

शाहरुख़ की बात को आगे बढ़ाते हुए फिल्म निर्देशक कबीर खान ने कहा कि भारतीय सिनेमा इस समय बदलाव से गुज़र रहा है, वैसे भारतीय फिल्म उद्योग नायकों पर आधारित है लेकिन पिछले कुछ वर्षों में निर्देशकों की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण हुई है। ऐसा इसलिए भी हुआ है क्योंकि शाहरुख़ समेत कुछ कलाकारों ने इस बदलाव को महत्व दिया है।

कबीर ने बताया कि मैं इस बात से बहुत खुश हूंँ कि मेरी फिल्म बजरंगी भाईजान चीन में बहुत पसंद की गई है जिसका श्रेय चीनी लोगों के खुले दिल को जाता है जिन्होंने एक विदेशी फिल्म को खासा महत्व दिया। चीनी दर्शकों ने विदेशी प्रतिभा को महत्व दिया। इस फिल्म की सफलता ये बताती है कि चीनी और भारतीय दर्शकों की भावनाएं एक जैसी हैं। फिल्में भावनाओं से प्रेरित होती हैं।

नौंवें पेइचिंग अंतर्राष्ट्रीय फिल्मोत्सव में बॉलिवुड कलाकारों का प्रेस सम्मेलन

हम दोनों देशों में लोगों की पारिवारिक मूल्य, भावनाएं एक जैसी हैं जो हमें पश्चिम में देखने को नहीं मिलतीं। दोनों देशों में फिल्म के सह निर्माण को लेकर संभावनाएं अपार हैं। भारत में जहाँ इस समय पाँच हज़ार थियेटर हैं वहीं चीन में साठ हज़ार थिएटर हैं। कबीर ने अपनी बात को जारी रखते हुए कहा कि अच्छी कहानी जो मेरे मन को छू जाये मैं उस पर काम करता हूँ। अगर कहानी में अच्छा संदेश अच्छी भावनाएं हैं तो मैं उनके साथ आगे बढ़ता हूँ।

शाहरुख़ ने बात आगे बढ़ाते हुए कहा कि भारतीय एक अच्छे श्रोता हैं जो अपने बचपन से नानी दादी से महाभारत, रामायण और ढेर सारी लोक कथाओं को सुनकर बड़े हुए हैं। कहानी में मौजूद भावनाओं, संदेश और संदेश के मूल्यों को देखकर लगता है कि चीनी और भारतीय लोगों में काफी समानता है और दोनों ही एक दूसरे के बहुत करीब हैं।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी