टिप्पणी: अमेरिका का असली दुश्मन ही है स्टीव बैनन

2019-05-16 20:07:00

अमेरिकी राष्ट्रपति के भूतपूर्व राष्ट्रपति के वरिष्ठ सलाहकार स्टीव बैनन ने वर्ष 2017 के अगस्त में त्यागपत्र देने के बाद इधर-उधर भाषण देते हुए चीन पर लगातार आरोप लगाया। हाल ही में जब अमेरिकी सरकार ने चीनी मालों के खिलाफ अतिरिक्त कर वसुली लगाना चाहा, तब स्टीव बैनन ने जल्द ही एक लेख जारी कर अमेरिका से चीन के साथ अंत तक आर्थिक युद्ध करने की मांग की।

स्टीव बैनन ने अपने लेख में चीन से औद्योगिक लोकतंत्र देशों के साथ आर्थिक युद्ध शुरू करने की निन्दा की। लेकिन वास्तव में चीन की बेल्ट एंड रोड पहल से दूसरे देशों के आर्थिक सह-निर्माण करने का सबसे बड़ा मंच तैयार हो गया है। बैनन ने शीत युद्ध के विचार से चीन-अमेरिका व्यापार घर्षण को मूल मुठभेड़ बतायी। और चीन को चोरी और लूटमार करने को बदनाम किया। लेकिन वर्ष 2017 में चीन के पेटेंट, ट्रेडमार्क, औद्योगिक डिजाइन समेत बौद्धिक संपदा अधिकार आवेदनों की संख्या विश्व में सबसे अधिक रही। वर्ष 2018 में चीन की नवाचार सूचकांक विश्व के 17वें स्थान पर रही जो पिछले साल से पाँच अंक बढ़ा है।

स्टीव बैनन ने ने चीन को यह बदनाम किया कि चीन "ग्लोबल ओवरलॉर्ड" बनना चाहता है। लेकिन 15 मई को उद्घाटित सीडीएसी सम्मेलन में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अपने भाषण में कहा कि चीनी सभ्यता ने प्राचीन काल से ही अच्छे पड़ोसी का विचार प्रस्तुत किया था। शी चिनफिंग ने अनेक बार यह दोहराया कि चीन सदैव वर्चस्व और विस्तारवाद की कार्यवाही नहीं करेगा और दूसरे देशों का शोषण भी नहीं करेगा। राष्ट्रपति शी ने इसलिये मानव के समान भाग्य समुदाय की स्थापना का विचार प्रस्तुत किया है।

15 मई को अमेरिका के कुछ सीनेट सदस्यों ने कांग्रेस में एक बिल पेश कर चीन के सैन्य अनुसंधान संस्थान में कार्यरत व्यक्तियों को वीजा न देने का अनुरोध किया। उसी दिन ह्वाइट हाउस ने चीनी कंपनी ह्वावेई के खिलाफ व्यापार प्रतिबंधित करने का आदेश दिया। वास्तव में जो अमेरिका को हरा सकता है, वह अमेरिका खुद ही है। वर्तमान में "शून्य-राशि" प्रतिस्पर्धा तथा बल राजनीति के पुराने विचारों पर अड़ा रहने के वो लोग, अमेरिका के असली दुश्मन ही हैं।

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा कि संरक्षणवादी नीति कायम करने से अपने खुद को अंधेरे कमरे में बन्द किया जाएगा, इससे बरसात से बचने के साथ साथ धूप और ताजा हवा से भी वंचित रहता है। लेकिन स्टीव बैनन जैसे लोगों के प्रयासों से अमेरिका ने अपने खुद को अंधेरे कमरे में बन्द कर लिया है जो बिल्कुल खेदजनक बात ही है।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी