सभ्यताओं के आदान प्रदान और आपसी सीख को आगे बढ़ाने का बड़ा महत्व

2019-05-20 14:37:00

सभ्यताओं के आदान प्रदान और आपसी सीख को आगे बढ़ाने का बड़ा महत्व

चीन द्वारा एशियाई सभ्यताओं के संवाद सम्मेलन का आयोजन करने से विश्व सभ्यताओं के आदान-प्रदान और आपसी सीख को आगे बढ़ाने, विकास, नवाचार और सामाजिक समृद्धि प्राप्त करने का बड़ा महत्व है। यूनेस्को के सामाजिक विज्ञान के सहायक निदेशक नाडा अल-नशीफ ने हाल ही में पेइचिंग में इस सम्मेलन में भाग लेते हुए संवाददाताओं के सामने यह बात कही।

उन्होंने कहा कि सम्मेलन में सभ्यताओं की विविधता, समानता, समावेशिता पर ज़ोर दिया गया। उन्हें खुशी है कि चीन ने एशियाई सभ्यताओं के संवाद में बड़ी भूमिका निभाई।

नाडा अल-नशीफ ने कहा कि यूनेस्को ने चीन के साथ मज़बूत साझेदार संबंधों की स्थापना की, आपसी घनिष्ठ सहयोग जारी है। चीन ने यूनेस्को के सिल्क रोड से संबंधित परियोजनाओं के लिए बड़ा समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि यूनेस्को ने चीन द्वारा प्रस्तुत समानता, आपसी समझ, संवाद और सहिष्णुता की अवधारणा को मान्यता दी है। यूनेस्को को विश्वास है कि सांस्कृतिक विविधता विकास, नवाचार और सामाजिक समृद्धि को प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

(वनिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी