"चीन-अमेरिका आर्थिक और व्यापार विचार-विमर्श पर चीन का रुख" शीर्षक श्वेत पत्र जारी

2019-06-02 16:38:00

"चीन-अमेरिका आर्थिक और व्यापार विचार-विमर्श पर चीन का रुख" शीर्षक श्वेत पत्र जारी

चीनी राज्य परिषद के समाचार कार्यालय ने 2 जून को "चीन-अमेरिका आर्थिक और व्यापार विचार-विमर्श पर चीन का रुख" शीर्षक श्वेत पत्र जारी किया। इसमें चीन और अमेरिका के बीच आर्थिक व व्यापारिक वार्ता की जानकारियों का परिचय दिया गया और इस सवाल पर चीन की नीतियों पर प्रकाश डाला गया।

यह गत सितंबर में "चीन-अमेरिकी व्यापार घर्षण पर तथ्यों तथा चीन का रुख" प्रकाशित होने के बाद चीन द्वारा जारी दूसरा श्वेत पत्र है। 8300 शब्दों से गठित इस श्वेत पत्र में ये विषय शामिल हैं कि अमेरिका ने चीन के साथ व्यापार घर्षण करने से दोनों देशों और विश्व के हितों को क्षति पहुंचायी, अमेरिका ने चीन के साथ व्यापार वार्ता में ईमानदारी नहीं दिखायी, जबकि चीन ने वार्ता में सदैव समानता, आपसी लाभ और ईमानदारी दिखाता रहा है।

इस श्वेत पत्र में कहा गया है कि आर्थिक व व्यापारिक संबंध चीन-अमेरिका संबंधों का आधार और संचालक शक्ति है, जो दोनों देशों की जनता के बुनियादी हितों, विश्व समृद्धि और स्थिरता से संबंधित है। श्वेत पत्र के अनुसार वर्ष 2017 से अमेरिका की नयी सरकार ने टैरिफ बढ़ाने के जरिये अपने प्रमुख व्यापार सहपाठियों के साथ आर्थिक घर्षण किया। वर्ष 2018 के मार्च से चीन ने अपने हितों की रक्षा के लिए अमेरिका को जवाब दिया। चीन का सतत रुख रहा है कि सहयोग करना चीन और अमेरिका दोनों देशों के लिए एकमात्र सही चुनाव है। चीन सहयोग कर चीन-अमेरिका व्यापार घर्षण का समाधान करने को तैयार है, लेकिन सहयोग करने की आधार रेखा भी होनी चाहिये। चीन महत्वपूर्ण सिद्धांतों पर रियायत नहीं देगा।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी