टिप्पणी:"चाइना प्लान" से अनवरत विकास की नयी राह खुलेगी

2019-06-08 17:08:00

जिम्मेदारना बड़ा देश होने के नाते चीन ने कार्बन उत्सर्जन, नए ऊर्जा स्रोतों का विकास और वनीकरण के संदर्भ में उल्लेखनीय प्रगतियां हासिल की हैं। वर्ष 2000 से 2017 तक विश्व भर के हरित क्षेत्र में 5% की वृद्धि साबित हुई जिस का एक चौथाई भाग चीन से आया है। शी ने अपने भाषण में एक बार फिर“हरित पर्वत स्वर्ण पर्वत ही है”का विचार दोहराया और कहा कि चीन नीला आकाश, साफ पानी और शुद्ध भूमि के लिए अथक प्रयास करेगा और पेरिस संधि में निर्धारित वचनों का कार्यांवयन करेगा।

रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने मंच में कहा कि असमान अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था से स्थिरता और स्थायीत्व नहीं बनाये रखा जा सकेगा। मानव को नयी अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था की तलाश करनी चाहिये, संयुक्त राष्ट्र संघ के केंद्रीय स्थान का समादर करना चाहिये और विकासमान देशों के अधिकारों का समर्थन करना चाहिये। मंच में उपस्थित प्रतिनिधियों का मानना है कि चीन बहुपक्षवाद और स्वतंत्र व्यापार की रक्षा करने में महत्वपूर्ण शक्ति बन गयी है।

1.4 अरब जनसंख्या प्राप्त बड़ा देश होने के नाते चीन ने अपने आर्थिक व सामाजिक विकास को बढ़ाने से संयुक्त राष्ट्र अनवरत विकास के लिए महत्वपूर्ण योगदान पेश किया है। चीन का मानना है कि अनवरत विकास वैश्विक समस्याओं को हल करने के लिए "स्वर्णिम चाबी" है। वैश्वीकरण का उलटा करने वाली कोशिशों से वैश्वीकरण के रूझान को रोका नहीं जा सकेगा। चीन अपने विकास को विश्व के विकास के प्रक्रिया में रखेगा और पूरी दुनिया के अनवरत विकास के लिए "चीनी बुद्धिमान" तथा "चीनी शक्ति" का योगदान पेश करेगा।

( हूमिन )

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी