दोहरा मापदंड अपनाना पश्चिमी देशों की सामान्य चाल है

2019-07-30 13:21:00

जून माह में चीन के हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र में हिंसक प्रदर्शन हुआ। इस बात को लेकर अमेरिका और ब्रिटेन के कुछ पश्चिमी सूत्रों ने दोहरा मापदंड अपनाकर गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणी की। उन्होंने हांगकांग के कट्टरपंथियों की प्रशंसा करने के साथ-साथ पुलिसकर्मियों की कानूनी कार्यवाहियों पर निराधार आरोप लगाया, और चीन सरकार को बदनाम किया कि उसने हांगकांग की स्वतंत्रता और अधिकार को सीमित किया है। अमेरिकी सीनेट की वैदेशिक मामलात कमेटी के अध्यक्ष एलियट एंगेल ने हाल ही में कहा कि हांगकांग पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को दबाने में बल का दुरुयोग किया है और इससे हांगकांग के शासन को बदनाम किया है। यह वाक्य बिल्कुल निराधार है और इससे हांगकांग शासन व चीन के अन्दरूनी मामलों में हस्तक्षेप किया गया है।

पश्चिमी सूत्रों की दृष्टि में केवल पश्चिमी देशों में हुई हिंसक कार्यवाही ही हिंसक कार्यवाही है। लेकिन हांगकांग में हुई जो हिंसक कार्यवाही है, वह शांतिपूर्ण प्रदर्शन है। इन सूत्रों ने हांगकांग की सरकार से "अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और रैली का आयोजन करने के अधिकार" का सम्मान करने की मांग की और हांगकांग के उन बदमाशों को "मानवाधिकार और स्वतंत्रता के लिए सेनानी" बताया। इससे यह साबित है कि पश्चिम में कुछ सूत्र बिल्कुल पाखंडी और अनैतिक हैं।

लेकिन पश्चिमी देशों में जब भी हिंसक प्रदर्शन हुआ है, वहां की पुलिस ने क्रुरता के साथ प्रदर्शनकारियों का दमन किया है। लेकिन हांगकांग के सवाल पर पश्चिमी सूत्रों ने अपना मुख बदल दिया है। उन्होंने हांगकांग पुलिस के सामान्य कार्यक्रम को बुरी तरह से दोषी बनाया। जब ब्रिटेन हांगकांग पर शासन करता था, तब ब्रिटेन ने हांगकांग में सभी गवर्नर नियुक्त किये। उस समय पश्चिमी देशों ने हांगकांग वासियों की स्वतंत्रता और मानवाधिकार पर ध्यान नहीं दिया। मातृभूमि की ओर वापस होने के 22 सालों में चीनी केंद्र सरकार ने "एक देश, दो व्यवस्थाएं" और "हांगकांग का शासन हांगकांग वासियों द्वारा किया जाना" का सिद्धांत अपनाया। हांगकांग वासी अपनी भूमि के मालिक बने। हांगकांग का कानून सूचकांक का विश्व में रैंकिंग 1996 के 60वें स्थान से 2018 के 16वें स्थान तक उन्नत किया गया है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी