टिप्पणी:आईएनएफ संधि के बेकार होने से वैश्विक सुरक्षा ख़तरा बढ़ा

2019-08-02 17:37:00

2 अगस्त को विश्व रक्षा करने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली इंटरमीडिएट-रेंज न्यूक्लियर फोर्सेज़ संधि यानी आईएनएफ संधि औपचारिक रूप से बेकार हो गई है। अमेरिका के इस संधि से बाहर निकलने, उसके द्वारा एकपक्षवाद और प्रभुत्वावाद की नीति लागू किये जाने का एक और प्रदर्शन है, जिससे बड़े देशों के बीच रणनीतिक सुरक्षा और आपसी विश्वास को कमज़ोर किया जाएगा, हॉटस्पॉट्स में हथियारों की दौड़ को बढ़ाया जाएगा, विश्व सुरक्षा स्थिति में नया खतरा पैदा होगा।

आईएनएफ संधि 1987 में संपन्न सोवियत संघ और अमेरिका के बीच मध्यम दूरी, मध्यम और कम दूरी की मिसाइलों का उन्मूलन करने की संधि है। यह संधि शीत युद्ध के दौरान सबसे सफल हथियार नियंत्रण समझौता माना जाता है, जो सोवियत संघ और अमेरिका, रूस और अमेरिका के बीच रणनीतिक संतुलन का समन्वय करने, जोखिम प्रतिरोध को कम करने, परमाणु प्रसार को रोकने के क्षेत्रों में सकारात्मक भूमिका निभाई गई।

वर्तमान अमेरिकी सरकार के कार्यकाल शुरू होने के बाद बाहरी सुरक्षा नीति में स्पष्ट रूप से बदलाव हुआ है। आईएनएफ़ संधि से संबंधित अमेरिका और रूस के बीच अंतर्विरोध आगे बढ़ रहा है। अमेरिका ने आईएनएफ संधि से हटने की 6 महीनों की प्रक्रिया शुरू की। इसके जवाब में रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने मार्च में इस संधि का पालन करने को स्थगित करने के आदेश पर हस्ताक्षर किए थे। अमेरिका के एकतरफा इस संधि से हटने का लक्ष्य है मौजूदा अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा व्यवस्था के बांधे को तोड़ना, जिससे अमेरिका का प्रभुत्वावाद विचार दिखाया गया है।

अमेरिका के आईएनएफ संधि से हटने से विश्व सुरक्षा स्थिति को कई नुकसान पहुंचाया जाएगा। पहला, अमेरिका और रूस के बीच संबंध को और अधिक नुकसान पहुंचाया जाएगा। दूसरा, यूरोप के सामने सुरक्षा का बड़ा ख़तरा मौजूद है। तीसरा, एशिया-प्रशांत सुरक्षा स्थिति और जटिल होगी।

चीन हमेशा से रक्षात्मक राष्ट्रीय रक्षा नीति लागू करता है। चीन द्वारा जारी ताजा राष्ट्रीय रक्षा श्वेत पत्र में कहा गया है कि चीन किसी भी समय और किसी भी स्थिति में पहले परमाणु हथियारों का उपयोग नहीं करने की नीति अपनाता है, चीन किसी भी देश के साथ परमाणु हथियारों की दौड़ नहीं करेगा। चीन शस्त्रों की दौड़ में शामिल होना नहीं चाहता है। लेकिन अगर बाहरी सुरक्षा का वातावरण लगातार बिगड़ेगा, तो चीन जरूर प्रभावी ढंग से देश की सुरक्षा के लिए ऐसे कदम उठाएगा।

(वनिता)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी