वांग यी ने सुषमा स्वराज से मुलाकात की

2017-12-12 19:14:05

वांग यी ने सुषमा स्वराज से मुलाकात की

11 दिसंबर को चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने चीन भारत-रूस विदेश मंत्रिस्तरीय बैठक के दौरान भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात की ।

वांग यी ने कहा कि वर्ष 2017 चीन भारत संबंधों के विकास की आम स्थिति बनी रही है ।दोनों पक्षों ने इसके लिए बड़ी कोशिश की ,लेकिन संतोषजनक नहीं है ।भारतीय सुरक्षा बलों द्वारा सीमा पार करने से हुई डोकलाम घटना से द्विपक्षीय संबंधों को गंभीर चुनौती का सामना करना पड़ा ।अंत में इस घटना का राजनयिक तरीके से शांतिपूर्ण समाधान हुआ ,जिससे द्विपक्षीय संबंधों की परिपक्वता जाहिर हुई ।लेकिन सबक सीखने की जरूरत है। ताकि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति से बचा जा सके।

वांग यी ने कहा कि दोनों देशों के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात वास्तव में पारस्परिक विश्वास पैदा करना है। पारस्परिक विश्वास स्थापित करने के बाद ठोस मुद्दों को पारस्परिक रियायत के आधार पर हल करने की संभावना होगी । आपसी विश्वास के अभाव से कुछ सवाल निरंतर द्विपक्षीय संबंधों की समग्र स्थिति पर बुरा असर डालेंगे ।इसलिए दोनों पक्षों को विभिन्न स्तरीय रणनीतिक संपर्क मजबूत करते हुए स्थापित वार्ता तंत्रों की बहाली कर विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाना चाहिए।अगर चीन और भारत एक स्वर में बोले, तो पूरी दुनिया सुनेगी। ।आशा है कि यह दिन जल्दी आएगा ।

सुषमा स्वराज ने कहा कि कुछ चुनौतियों के बावजूद आम तौर पर चीन भारत संबंधों का स्थिर विकास बना रहता है ।दोनों पक्षों ने राजनयिक उपाय से डोकलाम घटना का समाधान किया ,जिसने दोनों पक्षों की राजनीतिक बुद्धि जाहिर की ।भारत का विचार है कि दोनों देशों के बीच समानता मतभेदों से काफी ज्यादा है ।दोनों पक्षों को रणनीतिक संपर्क और विश्वास मजबूत कर मतभेदों को मुठभेड़ के रूप में बिल्कुल भी नहीं बदलने देना चाहिए। भारत चीन के विभिन्न द्विपक्षीय वार्ता की बहाली कर विभिन्न क्षेत्रों का सहयोग बढ़ाना चाहता है ।इसके साथ दोनों देशों को मतभेद नियंत्रित कर एक साथ सीमा क्षेत्र की शांति बनाए रखनी चाहिए । (वेइतुङ)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी