(फोटो) चीन-भारत आर्थिक-व्यापारिक सहयोग का भविष्य उज्ज्वल हैःभारतीय अर्थशास्त्री

2018-04-24 20:08:04

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग 27 से 28 अप्रैल तक चीन के हुबेई प्रांत के वूहान शहर में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनौपचारिक मुलाकात करेंगे। भारतीय समुदाय इस पर ध्यान दे रहा है। मानना है कि दोनों देशों के नेताओं के बीच मुलाकात चीन-भारत संबंध के विकास के लिए लाभदायक होगा। भारतीय आदित्य बिड़ला ग्रुप के मुख्य अर्थशास्त्री अजीत रानडे का मानना है कि चीन और भारत के बीच आर्थिक और व्यापारिक सहयोग का भविष्य और विस्तृत होगा।

हाल के वर्षों में चीन और भारत के बीच आर्थिक-व्यापारिक आदान प्रदान बहुत घनिष्ठ है, सहयोग क्षेत्र में भी बहुत अधिक उपलब्धियां हासिल हुई हैं। आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2017 में दोनों के बीच द्विपक्षीय व्यापार 84.4 अरब डॉलर पहुंचा, जो गत साल की तुलना में 20.3 फीसदी अधिक रहा। चीन भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है। चीन भारत से आयात राशि की वृद्धि 40 प्रतिशत पहुंची है, साथ ही चीन और भारत के बीच निवेश और सहयोग भी मजबूत हुआ है। अब तक चीनी उद्यमों ने भारत में कुल 8 अरब डॉलर का निवेश किया है। हाल के 3 वर्षों में भारतीय उद्यमों के चीन में निवेश में हर साल 18.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। मार्च 2018 में चीन और भारत के उद्यमों ने 101 व्यापार समझौतों पर हस्ताक्षर किए, जिसकी राशि कुल 2.3 अरब डॉलर है। अजीत रानडे कहते हैं कि यह चीन और भारत के बीच सहयोग के उज्जवल भविष्य का प्रतीक है।

(मीरा)

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी