भारतीय तीर्थ यात्रियों की अच्छी सेवा करेगा चीन

2019-04-04 16:06:00

भारतीय तीर्थ यात्रियों की अच्छी सेवा करेगा चीन

2 अप्रैल को भारत की यात्रा कर रहे चीनी तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के विदेशी मामला दफ्तर के प्रधान पेइमानयांगचो ने दिल्ली में भारत में कुछ भारतीय तीर्थ यात्रियों के साथ एक संगोष्ठी का आयोजन किया। भारतीय गैर सरकारी तीर्थ यात्री संघ के अध्यक्ष, भारतीय ट्रेड यूनियन के भारत-चीन मंच के अध्यक्ष, पूर्व भारतीय सांसद तरुण विजय ने संगोष्ठी की अध्यक्षता की। भारतीय ट्रेड यूनियन के सदस्य, भारतीय विदेश मंत्रालय के अधिकारी, भारतीय तीर्थ यात्री, भारतीय ट्रेवल एजेंसियों के प्रतिनिधियों और चीन व भारत की मीडिया के प्रतिनिधियों समेत करीब 70 से अधिक लोगों ने इसमें हिस्सा लिया। भारत स्थित चीनी दूतावास के मिनिस्टर आदि राजनयिकों ने भी भाग लिया।

संगोष्ठी में पेइमानयांगचो ने भारतीय तीर्थ यात्रियों की तिब्बत यात्रा के इतिहास और मौजूदा स्थिति का सिंहावलोकन किया, तिब्बत स्वायत्त प्रदेश की सरकार द्वारा तीर्थ यात्रा के लिए की गयी सुविधाओं का परिचय दिया। चीन की केंद्र सरकार के समर्थन में तिब्बत ने व्यापक पूंजी देकर सत्कार केंद्रों, होटलों, सड़कों और पुलों का निर्माण किया। साथ ही तिब्बत ने पेशेवर गाइडों व अनुवादकों को प्रशिक्षण भी दिया। भारतीय तीर्थ यात्रियों की और अच्छी सेवा करने के लिए तिब्बत ने खास तौर पर भारतीय भोजन बनाने की तैयारी की। भविष्य में तिब्बत सत्कार उपकरणों का और सुधार करेगा और सेवा स्तर को उन्नत करेगा।

भारतीय तीर्थ यात्रियों की अच्छी सेवा करेगा चीन

भारत स्थित चीनी दूतावास के मिनिस्टर ने कहा कि हाल में तीर्थ यात्रा चीन और भारत के बीच आपसी विश्वास को प्रगाढ़ करने और सांस्कृतिक आदान प्रदान को गहरा करने का मुख्य विषय बन चुका है। इस काम को अच्छी तरह अंजाम देने के लिए दोनों देशों की केंद्र सरकारों और संबंधित स्थानीय सरकारों, ट्रेवल एजेंसियों और तीर्थ यात्रियों के समान प्रयास की जरूरत है। मिनिस्टर ने तिब्बत की कमजोर पारिस्थितिकी की रक्षा करने, भारतीय तीर्थ यात्रियों के चीनी कानून का पालन करने आदि मुद्दों पर भी जानकारी दी।

भारतीय तीर्थ यात्रियों की अच्छी सेवा करेगा चीन

गौरतलब है कि तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के नगर प्रिफेक्चर का पवित्र कैलाश और मानसरोवर बौद्ध धर्म और हिन्दू धर्म के अनुयाइयों द्वारा पवित्र पर्वत व तालाब माने जाते हैं। पिछले शताब्दी के 80 के दशक में रोज करीब सौ भारतीय तीर्थ यात्रियों ने तिब्बत का दौरा किया, जबकि 2018 में यह संख्या 20 हजार से अधिक हो गयी है। इस साल तीर्थ यात्रा का पंजीकृत कार्य 2 अप्रैल से औपचारिक रूप से शुरू होगा। तीर्थ यात्रा जून माह की शुरूआत से सितम्बर के अंत तक चलेगी।

(श्याओयांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी