“व्यापार युद्ध से चीन और अमेरिका के बीच तीन नजरिया का संघर्ष जाहिर”- ल्यू श्याओमिंग

2018-07-09 18:43:00

उधर, विकास नजरिया का संघर्ष यह है कि लम्बे समय में अमेरिका विश्व अर्थतंत्र, सैन्य मामले और विज्ञान तकनीक क्षेत्र का नेतृत्व है। अमेरिका के विकास के साथ-साथ दूसरे देशों का भी विकास हो रहा है। वैश्वीकरण युग में विभिन्न देशों का भाग्य जोड़ता है। ऐसी स्थिति में अमेरिका का विकास दूसरे देशों के साथ सहयोग पर निर्भर रहना चाहिए, न कि दूसरे देश के विकास को बाधित करना और दूसरे देशों की जनता के सुनहरे जीवन को खोजने के अधिकार को छीनना। ऐसा करने से अमेरिका को अंतरराष्ट्रीय समुदाय में कम सहायता मिलेगी और अंत में उसे खुद नुकसान जरूर पहुंचेगा। वहीं चीन सृजनात्मक, समन्वय, हरित, खुले और समान उपभोग वाले विकास नजरिया पर कायम है। चीन का लक्ष्य है कि विकास वाले मुद्दे का समाधान कर विकास को प्रेरित शक्ति मजबूत की जाएगी, ताकि विभिन्न देशों में आर्थिक सामाजिक विकास साथ-साथ आगे बढ़ेगा।

अपने लेख में राजदूत ल्यू श्याओमिंग ने कहा कि चीन और ब्रिटेन वैश्वीकरण को आगे बढ़ाने वाले ही नहीं, इससे लाभ मिलने वाले भी हैं। दोनों देश एकतरफ़ावाद और संरक्षण से क्षति पहुंचने वाले भी हैं। इस तरह ऐसी स्थिति में चीन और ब्रिटेन को अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ मिलकर एकतरफ़ावाद और संरक्षणवाद का दृढ़ विरोध करते हुए विश्व आर्थिक स्थिति और बहु-पक्षीय व्यापारिक व्यवस्था का दृढ़ समर्थन करना चाहिए, ताकि मानव जाति के समान हितों की रक्षा करते हुए वैश्विक आर्थिक समृद्धि और स्थिरता को समान रूप से आगे बढ़ाया जा सके।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी