फ्रांस और जर्मनी ने यूरोप में एकीकरण को बढ़ाने के लिए आचेन संधि पर हस्ताक्षर किये

2019-01-23 17:02:00

फ्रांस और जर्मनी ने यूरोप में एकीकरण को बढ़ाने के लिए आचेन संधि पर हस्ताक्षर किये

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन और जर्मनी के प्रधानमंत्री एंजेला मार्केल ने 22 जनवरी को जर्मनी के आचेन शहर में संधि पर हस्ताक्षर किये और यूरोप के एकीकरण में फ्रेंको-जर्मन एक्सिस को मजबूत करने का निर्णय लिया।

आचेन संधि के हस्ताक्षरण से यह प्रतीक है कि फ्रांस और जर्मनी ने यूरोप में उभरते लोकलुभावनवाद को रोकने की घोषणा की है। लेकिन फ्रांस और जर्मनी समेत यूरोप की एकता फिर भी तीन तत्वों पर निर्भर रहेगी। यानी पहला, आचेन संधि का मूल इरादा पक्का है या नहीं। आचेन संधि को वर्ष 1963 में हस्ताक्षरित एलिसी संधि का 2.0 संस्करण समझा जाता है। दोनों का उद्देश्य यूरोप के हितों की रक्षा करना और अंतर्राष्ट्रीय मामलों में यूरोप के अधिकार को उन्नत करना है। दूसरा तत्व है अंतर्राष्ट्रीय वातावरण की तैयारी। आज का अंतर्राष्ट्रीय वातावरण वर्ष 1963 से अधिक जटिल है। यूरोपीय देशों में लोकलुभावनवाद का रूझान उभरने लगा है और अमेरिका व यूरोप के बीच दूरी भी बढ़ती जा रही है। तीसरा है कि आचेन संधि के हस्ताक्षरण से यूरोपीय एकता को बढ़ाने के हित में है या नहीं। आचेन संधि के मुताबिक फ्रांस और जर्मनी एकीकृत सैन्य प्रशिक्षण कार्यक्रम बनाएंगे और हथियारों के निर्यात का समन्वय करेंगे। दोनों देश एक दूसरे के सहारे सिलसिलेवार कदम भी उठाएंगे। लेकिन इस संधि में यूरोपीय संघ की एकीकृत बजट तथा एक यूरोपीय सैन्य गठबंधन की स्थापना की चर्चा नहीं की गयी है।

फ्रांस और जर्मनी ने यूरोप में एकीकरण को बढ़ाने के लिए आचेन संधि पर हस्ताक्षर किये

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी