चीन-अफ्रीका शिखर वार्ता:बहुपक्षवाद और अंतरराष्ट्रीय परिस्थिति की रक्षा की नई आवाज़

2019-06-28 15:38:00

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 28 जून को जापान के ओसाका में चीन-अफ्रीका शिखर वार्ता की अध्यक्षता की। चीनी विदेश मंत्रालय के अफ्रीका विभाग के प्रधान ताई पिन ने उसी दिन आयोजित पत्रकार सम्मेलन में संबंधित जानकारी दी। मौजूदा वार्ता चीन के प्रस्ताव पर आयोजित की गयी, जिसपर अफ्रीकी पक्ष और अंतरराष्ट्रीय संगठनों की सक्रिय प्रतिक्रिया मिली। जी 20 के एकमात्र अफ्रीकी सदस्य दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति मातमेला सिरिल रामफौसा, अफ्रीकी संघ के वर्तमान अध्यक्ष देश मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल सीसी, चीन-अफ्रीका सहयोग मंच के वर्तमान अफ्रीकी पक्ष के अध्यक्ष सेनेगल के राष्ट्रपति मैकी साल्ल और संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने मौजूदा शिखर वार्ता में भाग लिया।

पाँच नेताओं ने चीन-अफ्रीका सहयोग मंच के पेइचिंग शिखर सम्मेलन के फलों के कार्यान्वयन, चीन-अफ्रीका के“बेल्ट एंड रोड”के सह-निर्माण और वास्तविक सहयोग, अफ्रीकी विकास और संयुक्त राष्ट्र कार्य के समर्थन, बहुपक्षवाद की रक्षा, 2030 अनवरत विकास कार्यक्रम के कार्यान्वयन आदि विषयों पर गहन रुप से विचारों का आदान-प्रदान किया और व्यापक आम सहमतियां प्राप्त कीं।

चीनी विदेश मंत्रालय के अफ्रीका विभाग के प्रधान ताई पिन

ताई पिन के मुताबिक, मौजूदा शिखर सम्मेलन ने ज्यादा घनिष्ठ चीन-अफ्रीका साझे भाग्य समुदाय की स्थापना में नई जीवन शक्ति संचार हुई। शिखर सम्मेलन में विकासमान देशों के हितों की रक्षा के लिए नई आम सहमति प्राप्त हुई। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा कि वर्तमान विश्व में बड़ा परिवर्तन हो रहा है। चीन और अफ्रीका आदि विकासमान देशों का उत्थान ध्यानाकर्षक है। चीन चीन-अफ्रीका सहयोग के माध्यम में अफ्रीका में अंतरराष्ट्रीय समुदाय के निवेश का मार्गदर्शन करना चाहता है, विकास मुद्दे पर अफ्रीकी देशों की चिंता का ख्याल रखना चाहता है, जी 20 और वैश्विक मामलों में विकासमान देशों, खास कर अफ्रीकी देशों के बोलने के अधिकार और प्रभावशाली शक्ति की मजबूती का समर्थन करना चाहता है।

चीनी विदेश मंत्रालय के अधिकार ताई पिन के अनुसार, मौजूदा शिखर सम्मेलन में बहुपक्षवाद और अंतरराष्ट्रीय परिस्थिति की रक्षा के लिए नई शक्तिशाली आवाज़ सुनाई दी गई। वार्ता में विभिन्न पक्ष के नेताओं ने कहा कि एकतरफ़वाद, संरक्षणवाद और दादागिरी उभरने से आर्थिक भूमंडलीकरण और अंतरराष्ट्रीय परिस्थिति में खतरा पैदा हुआ और विकामान देशों के बाह्य वातावरण में गंभीर चुनौती भी पैदा हुई।

(श्याओ थांग)

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी