ज्येबा गांव में होम होटल पर्यटन का विकास

2018-03-19 15:33:06

चीन के तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के न्यिंगची शहर की गोंगबु जियांगडा काउंटी में स्थित बासूंग छ्वो तिब्बत के चार प्रमुख पवित्र झीलों में से एक माना जाता है। झील के पास हिम पर्वत, जंगल और प्राचीन मंदिर खड़े हुए हैं। असाधारण प्राकृतिक दृश्यों से बासूंग छ्वो को देश का 5 ए स्तरीय पर्यटन क्षेत्र निर्धारित किया गया है। ज्येबा गांव इस सुन्दर पर्यटन क्षेत्र के केंद्र में स्थित है। गांव के निवासियों को होम होटल पर्यटन के विकास से अमीर जीवन का एहसास हो गया है।

ज्वोगा ने वर्ष 1993 में ज्येबा गांव में सबसे पहला होम होटल खोल दिया। ज्वोगा ने बताया कि उन के होम होटल का दाम प्रति दिन 260 युवान रहता है। अभी तक उन्हों ने दो होम होटल खोले हैं और एक साल की आय एक लाख युआन तक रही है, उन्होंने कहा,“मेरे होटल में हरेक कमरे का अपना वॉशरूम है। मेरे दो होटलों में कुल 13 कमरे मौजूद है, होटल चलाने से एक वर्ष की आय एक लाख युवान तक रहती है। मैं आम तौर पर इंटरनेट के माध्यम से अतिथियों से संपर्क रखती हूं।”

गोंगबु जियांगडा काउंटी के पर्यटन विभाग के प्रधान बादान त्सेवांग ने कहा कि उन के होटल में रहने वाले पर्यटकों में 70 प्रतिशत अपनी मोटर गाड़ी से यहां आते हैं। ऐसे पर्यटक आम तौर पर होम होटलों में रहना चुनते हैं।

पिछली शताब्दी के 1990 के दशक में ज्येबा गांव के लोग पेड़ काटने से रहते थे। लेकिन पेड़ काटने से जंगल को क्षति पहुंचती थी। सरकार ने जंगल सरंक्षण नीति लागू की और गांव वासियों को पर्यटन का विकास करने में मदद दी। वर्ष 2006 में गांव में तीन होम होटल खोले गये, पर वहां रहने वाले पर्यटकों की संख्या लिमिटेड थी। धीरे धीरे गांव में अधिकाधिक होम होटल उभरने लगे और यहां आये पर्यटकों की संख्या भी बढ़ती रही। अब गांव में कुल 31 होम होटल हैं जिन के पास कुल 417 बेड प्राप्त हैं। प्रति वर्ष ज्येबा गांव का दौरा करने वाले पर्यटकों की संख्या तीस हजार तक पहुंची है, पर्यटन के विकास गांव में हरेक होम होटल की आय 1.2 लाख युवान तक रही है।

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी