चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

2018-09-05 14:32:01

चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

हिंद महासागर में स्थित मालदीव एक मनमोहक पर्यटन स्थल है। विशिष्ट भौगोलिक स्थिति का लाभ उठाकर वहां का पर्यटन उद्योग समृद्ध रहता है। लेकिन हजारों वर्षों में मालदीव के विभन्न द्वीपों के बीच आना जाना मुख्य तौर पर नावों पर निर्भर रहता था, जो देश के विकास के लिए एक बड़ी बाधा है। स्थानीय जनता का लंबे समय से एक सपना था कि राजधानी माले द्वीप और हवाई अड्डे द्वीप को जोड़ने के लिये एक पुल बनाया जाए। 30 अगस्त की रात चीन की सहायता से बना चीन मालदीव मित्रता पुल खोला गया। मालदीव जनता की पीढ़ियों से पल रहा सपना साकार हो गया।

स्थानीय समयानुसार 30 अगस्त की रात साढ़े 8 बजे चीन की सहायता से बने चीन-मालदीव मित्रता पुल खुलने का समारोह धूमधाम से आयोजित हुआ। माले द्वीप पर दीपों की रोशनी से चमक दी जा रही थी और आतिशबाजी छोड़ी जा रही थी। विशाल चीन-मालदीव मित्रता पुल समुद्र की लहरों के ऊपर पार करता है। ब्रिज हेड पर चीन और मालदीव के राष्ट्रीय झंडे हवा में फहरा रहे थे। हजारों स्थानीय लोग वाहवाही करते हुए इस ऐतिहासिक दृश्य देख रहे थे। इसके अलावा मालदीव के सरकारी टी वी स्टेशन ने इस शानदार इवेंट का आंखों देखा हाल प्रसारित किया।

चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

दोनों सरकारों के प्रतिनिधियों ,पुल के निर्माताओं ,मालदीव के आम नागरिकों समेत 2000 से अधिक लोग रस्म में उपस्थित हुए। मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन और चीन सरकार के प्रतिनिधि और राजकीय अंतररष्ट्रीय विकास और सहयोग संस्था के प्रमुख वांग श्यो थो ने एक साथ पुल का शुभारंभ किया। वांग श्यो थो ने अपने भाषण में बताया ,चीन-मालदीव मित्रता पुल मालदीव का पहला समुद्र पारीय पुल है, जिसने मालदीव की जनता का लंबे समय का सपना पूरा किया है। यह पुल न सिर्फ मालदीव के दो द्वीपों को जोड़ता है ,बल्कि दोनों देशों की जनता की साथ साथ समृद्धि की ओर बढ़ने की ख्वाहिशों को जोड़ता है। वह नये काल में चीन मालदीव मित्रता का प्रतीक बनेगा।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी