चीन पाक आर्थिक गलियारा एक पट्टी एक मार्ग निर्माण में अग्रसर बना रहेगा

2019-04-23 10:33:00

चीन पाक आर्थिक गलियारा एक पट्टी एक मार्ग निर्माण में अग्रसर बना रहेगा

चीन पाक आर्थिक गलियारे (सीपेक) का निर्माण वर्ष 2013 में शुरू हुआ था। वर्ष 2015 में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने पाकिस्तान की यात्रा की, जिससे सीपेक के निर्माण ने गति पकड़ी। अब ग्वादार बंदरगाह ,ऊर्जा ,यातायात बुनियादी संस्थापन और व्यावहारिक सहयोग में बड़ी प्रगति मिली है। एक पट्टी एक मार्ग निर्माण में सीपेक की परियोनजाएं सर्वाधिक हैं और विकास सबसे तेज़ है। पाकिस्तान स्थित चीनी राजदूत याओ चिंग ने हाल ही में चीनी मीडिया के साथ हुई एक बातचीत में बताया कि भविष्य में सीपेक का विकास गहराई तक चलेगा, सीपेक के निर्माण की उपलब्धियां पाकिस्तान का आर्थिक इंजन बन जाएंगी और चीन ,पाकिस्तान और आसपास के क्षेत्रों की जनता का इससे अधिक कल्याण होगा।

याओ चिंग ने बताया कि वर्ष 2013 में राष्ट्रपति शी चिनफिंग से एक पट्टी एक मार्ग प्रस्ताव पेश करने के बाद सीपेक निर्माण में उल्लेखनीय उपलब्धियां मिली हैं।

उन्होंने बताया,एक पट्टी एक मार्ग निर्माण में पाकिस्तान के कई लाभ हैं, जैसे चीन-पाक परंपरागत मित्रवत संबंध, पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था प्रारंभिक दौर में है, पाकिस्तान के बुनियादी संस्थापनों का अभाव है। इसके अलावा भौगोलिक दृष्टि से चीन और पाकिस्तान पड़ोसी देश हैं और दोनों के सहयोग का अच्छा आधार है। ऐसी स्थिति में सीपेक स्वाभाविक रूप से एक पट्टी एक मार्ग निर्माण में अग्रसर और परीक्षात्मक परियोजना बन गयी है। सीपेक सबसे पहले एक पट्टी एक मार्ग निर्माण में प्रारंभिक उपलब्धि हासिल करने के दौर में दाखिल हुआ है। इसके अलावा एक पट्टी एक मार्ग योजना के 6 बड़े आर्थिक गलियारों में सीपेक की परियोजनाएं सबसे अधिक हैं, निर्माण की गति सबसे तेज़ है और सहयोग के क्षेत्र सब से व्यापाक है।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी