कामरेड खूं फ़ैन सेन के जैसे श्रेष्ठ कार्यकर्ता न्गावां चोन्यी

2019-07-29 14:33:00

इस के बाद न्गावां चोन्यी ने सरकारी संस्था और दूसरे पद पर काम किया। वे हमेशा कामरेड खूं फ़ैन सेन को उदाहरण के रूप में लेकर जनता के हितों के लिए अथक प्रयास किया। सन 1992 में न्गावां चोन्यी को चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का सदस्य बना। उन्होंने संकल्प किया, कि मैं सचिव खूंग के जैसे जनता की सेवा में जिन्दगी भर काम करूंगा। न्गावां चोन्यी ने हमेशा कामरेड खूं फ़ैन सेन के साथ खींचे फोटो अपने पास रखकर कामबा काउंटी के भिन्न भिन्न पदों पर काम किया। चालीस सालों में कामबा काउंटी का भारी परिवर्तन आया है। काउंटी में सभी जगह सड़कें निर्मित हैं, हरेक घर में टीवी और मोटर गाड़ी सुरक्षित हैं, बिजली की पर्याप्त आपूर्ति की जा रही है, सभी लोगों ने मोबाई फोन का इस्तेमाल करना शुरू किया है। न्गावां चोन्यी ने कहा कि यही कामरेड खूं फ़ैन सेन की उम्मीद है, यानी कि कामबा काउंटी के लोगों को सुखमय जीवन दिलाया जाएगा।

न्गावां चोन्यी भूदास के संतान हैं। कालेज़ में से स्नातक होने और कार्यकर्ता बनने के बाद भी उन्होंने अपने मूल को नहीं भूला। जनता की सेवा करने का विचार हमेशा उन के दिल में रहा था। मिसाल के तौर पर कामबा काउंटी में हान जातीय डॉक्टर द्वारा संचालित एक क्लीनिक था। न्गावां चोन्यी अकसर अनुवाद की मदद के लिए इस क्लीनिक में जाते थे। जब गरीब बीमार आदमी से मिले, तो न्गावां चोन्यी ने अकसर अपने पैसे से भुगतान किया। वर्ष 2005 में कामबा काउंटी में रहने की एक दंपत्ति झगड़ा हुई और दोनों का तलाक हुआ। न्गावां चोन्यी ने सोचा कि तलाक होने से बच्चों को भारी क्षति पहुंचेगी। इसलिए उन्हों ने बार बार इस दंपत्ति के घर में जाकर उन्हें समझा-बुझाने का प्रयास किया। अंततः इन दोनों का पुनर्विवाह हुआ। ऐसी कहानियां और बहुत हैं। न्गावां चोन्यी ने अपनी ईमानदारी से बहुत से लोगों की मदद की। न्गावां चोन्यी का घर काउंटी नगर के सबसे दूर जगह में स्थित है। उन के सभी पड़ोसियों ने पहाड़ के नीचे अपना मकान निर्मित किया है। पर न्गावां चोन्यी ने ऐसा करना नहीं चाहा। और वर्ष 1991 में निर्मित उन के पुराने मकान में फर्नीचर आदि भी पुराना है। एक टीवी सेट के अलावा दूसरे घरेलू बिजली उपकरण भी नहीं है। न्गावां चोन्यी की पत्नी को नौकरी नहीं है। घर में केवल न्गावां चोन्यी को तनख्वाह मिलता था। लेकिन उन्होंने अपनी पत्नी को सरकारी संस्था में नौकरी दिलाने से इनकार दिया और कहा कि नौकरी करने का मौका सर्वप्रथम दूसरे लोगों को देना चाहिये। न्गावां चोन्यी ने अकसर अपने बच्चों को बताया कि हमारा सुखमय जीवन पार्टी और सरकार द्वारा दिया गया है। हमें पार्टी और मातृभूमि के प्रति कृतज्ञता महसूस करनी चाहिये।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी