कामरेड खूं फ़ैन सेन के जैसे श्रेष्ठ कार्यकर्ता न्गावां चोन्यी

2019-07-29 14:33:00

न्गावां चोन्यी हमेशा दूसरे लोगों के लिए उदार और सहायक थे, पर खुद को बहुत मितव्ययी रहे। पर अपने जीवन में उसने पैसे बचाने की हरसंभव कोशिश की। वर्ष 2002 में न्गावां चोन्यी रिटायर हुए। पर उन्होंने अकसर दूसरों से कहा कि मैं चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का सदस्य हूं। रिटायर होने के बावजूद सक्रियता से काम करूंगा। न्गावां चोन्यी ने पार्टी के महासचिव शी चिनफिंग और दूसरे पार्टी नेताओं के ग्रंथ सीखते रहे। उन का जीवन नारा ऐसा होता था कि "पुराने तक जियो, पुराने तक सीखो"। अवकाश के समय न्गावां चोन्यी ने मेहनती से पार्टी की विचारधारा, दस्तावेज़ और कानून पुस्तक का अनुसंधान किया। उन की नेत्र बीमारी हुई। पत्नी अकसर उनके लिए पुस्तक पढ़ती थी। इधर के वर्षों में न्गावां चोन्यी ने पत्नी की मदद में पार्टी की विचारधारा समेत बहुत सी सिद्धांत पुस्तकें पढ़ीं और बहुत नोट लिखा। रिटायर होने के बाद उन्होंने अपने सहपाठियों को बताया कि मैं हमेशा कम्युनिस्ट पार्टी का सदस्य रहूंगा, मैं कामबा के विकास के लिए सलाह और सुझाव पेश करूंगा। घर वापस होने के बाद न्गावां चोन्यी ने अपने पुराने सहपाठियों के साथ एक दल स्थापित किया, जो सार्वजनिक सुरक्षा, चिकित्सा, यातायात और पारिवारिक झगड़ा आदि सब से निपटारा करता है। दल के सदस्यों की संख्या भी तीन से 16 तक बढ़ गयी है। उन्होंने पार्टी की 18वीं और 19वीं राष्ट्रीय कांग्रेस के सिद्धांत सीखने,“नये और पुराने तिब्बत की तुलना में" तथा "समाजवाद का मूल नैतिक मूल्य" आदि प्रसारण गतिविधियों में भाग लिया। न्गावां चोन्यी ने सरकारी संस्था, स्कूल, ग्रामीण क्षेत्रों और मंदिरों सब जगह का दौरा किया और वे हमेशा पार्टी के सिद्धांत प्रसारित करने में व्यस्त रहे। न्गावां चोन्यी ने हमेशा अपनी कहानियों से लोगों में प्रसारण किया करते थे। उन का बयान तिब्बती लोगों को बहुत पसंद था। केवल इधर दो तीन सालों में न्गावां चोन्यी ने शिगात्ज़े शहर के लोगों के लिए आयोजित तीस से अधिक रैलियों में भाषण दिया। और स्कूल, ग्रामीण क्षेत्रों और मंदिरों में 70 से अधिक बार प्रसारण किया। कुल चालीस हजार लोगों ने उन का बयान सुना।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी